अधर्म के परिणामों से बचो

संजय जैन 
मुम्बई(महाराष्ट्र)

************************************************

 परिणामों से बचो,मनुष्य धर्मस्थानों में बंधता है या सब जगह बंधता है ? व्यापार करते हुए,भवन बनवाते समय या चाहे जो पाप क्रिया करते हुए मनुष्य बंध सकता है या नहीं ? मनुष्य किसी भी जगह और किसी भी अवस्था में बंध सकता है। इसलिए,यथासंभव परिणामों में बिगाड़ हो,ऐसे संयोगों में नहीं रहना चाहिए। अगर ऐसे वातावरण में रहना पड़े तो परिणाम न बिगड़ें,ऐसी सावधानी रखनी चाहिए।                  आप साधु नहीं बन सकते और पेड़ी-घर आदि संभाले बिना छुटकारा नहीं,इसलिए अगर परिणामों को अच्छे न रख सको तो यह थोड़ी-सी धर्म-क्रिया दुर्गति में जाने से आपको नहीं रोक सकती है। अगर दुर्गति से बचना हो और देव-गुरु-धर्म का प्राप्त संयोग न छूटे,ऐसी इच्छा हो तो धर्म-क्रिया पर बहुत अनुराग पैदा करना होगा और अधर्म क्रिया के राग के प्रति विराग पैदा करना होगा। भयंकर से भयंकर पाप-क्रिया करते समय भी परिणाम अधर्ममय न बन जाएं,ऐसी मनोवृत्ति विकसित करनी होगी।                                                                         पंचेन्द्रिय प्राणिवध,महारम्भ,महापरिग्रह आदि नरक के कारणों का सेवन करने वाले भी नरक में नहीं गए,और सद्गति को प्राप्त हुए,ऐसे उदाहरण हैं,लेकिन किस प्रभाव से ? जैसी क्रिया,वैसे परिणाम होते तो वे अवश्य नरक में जाते,लेकिन उन्होंने परिणामों को बिगड़ने नहीं दिया।                                                                                         धर्म क्रिया करने वाले के परिणाम बिगड़ने की संभावना कम रहती है, लेकिन वह भी अधर्म में मन से फंस जाए,यह संभव है। आपको तो अधर्म में बैठे हुए भी अधर्म के परिणामों से बचना है न ? ‘अधर्म छोड़ने योग्य है और एकमात्र धर्म ही सेवन योग्य है’,ऐसा अनुभव हुए बिना परिणाम अच्छे कैसे रह सकते हैं ? इसलिए,हम तत्व ज्ञान की बात कर रहे हैं। आप अगर सच्चे तत्व ज्ञाता बनें तो अधर्म में बैठे होकर भी अधर्म के परिणामों से खुद बहुत सरलता से बच सकते हैं। अगर शक्ति हो तो पंचेन्द्रिय प्राणी,महारंभ और महापरिग्रह आदि को छोड़ ही देना चाहिए। अगर अपनी चले,तो हमें इन संयोगों से हट ही जाना चाहिए। इसलिए,तो अपने यहां सुखी मनुष्य निवृत्ति लेकर सिद्धक्षेत्र में रहने लगते हैं और यथाशक्ति परिग्रह को घटाने के लिए परिग्रह का सदुपयोग करने लगते हैं। साधु भी नहीं बना जा सकता है और ऐसी निवृत्ति भी नहीं ली जा सकती है। आपको बहुत लोभ या बहुत ममता न हो,फिर भी आपका स्थान ऐसा है कि कदाचित् बाजार में जाना पड़े, लेकिन मन में क्या है ? आप कह सकते हैं कि ‘यह सब अच्छा तो नहीं लगता है,पर संयोग ऐसे हैं कि अगर अभी छोड़ दें तो बहुत हानि हो जाए’,यह सब मजबूरी से करना पड़ रहा है,इसका दुःख होना चाहिए।
परिचय-संजय जैन बीना (जिला सागर, मध्यप्रदेश) के रहने वाले हैं। वर्तमान में मुम्बई में कार्यरत हैं। आपकी जन्म तारीख १९ नवम्बर १९६५ और जन्मस्थल भी बीना ही है। करीब २५ साल से बम्बई में निजी संस्थान में व्यवसायिक प्रबंधक के पद पर कार्यरत हैं। आपकी शिक्षा वाणिज्य में स्नातकोत्तर के साथ ही निर्यात प्रबंधन की भी शैक्षणिक योग्यता है। संजय जैन को बचपन से ही लिखना-पढ़ने का बहुत शौक था,इसलिए लेखन में सक्रिय हैं। आपकी रचनाएं बहुत सारे अखबारों-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रहती हैं। अपनी लेखनी का कमाल कई मंचों पर भी दिखाने के करण कई सामाजिक संस्थाओं द्वारा इनको सम्मानित किया जा चुका है। मुम्बई के एक प्रसिद्ध अखबार में ब्लॉग भी लिखते हैं। लिखने के शौक के कारण आप सामाजिक गतिविधियों और संस्थाओं में भी हमेशा सक्रिय हैं। लिखने का उद्देश्य मन का शौक और हिंदी को प्रचारित करना है।

Hits: 11

आपकी प्रतिक्रिया दें.