अवध के राम

सत्येन्द्र प्रसाद साह’सत्येन्द्र बिहारी’
चंदौली(उत्तर प्रदेश)
*****************************************************************************
आस्था और अनास्था का दीप जलाए बैठे हैं
मंदिर बनेगा राम का,ये उम्मीद जगाए बैठे हैं,
त्रेता से कलयुग आ गया सत्ता के गलियारों में
सत्ता के लोलुप `मत` की खातिर कबसे रिझाए बैठे हैं।

सरयू का कल-कल पानी,अब धूनी रमाए कहती है
करना जिन्हें उद्धार राम का,तम्बू वही लगाए हैं,
विडंबना है अपनी अवधपुरी तम्बू में शीश झुकाए हैं
जय श्रीराम कहने वाले,नाम पर कमल खिलाए बैठे हैं।

अवशेष कहानी कहते हैं अवधपुरी है श्रीराम लला की
कुत्सित विचार बाबर ने मस्जिद है बनवाई इस्लाम की,
धर्म-मजहब के चक्कर में,आपस में शीश कटाए हैं
सत्ता-मत धर्म-मजहब है जिनका,वही लड़ाए बैठे हैं।

मानवता अब शर्मसार है,अब जन्म प्रमाणित करना है
किस मिट्टी से जन्म लिया,अब कोर्ट में साबित करना है,
मानवता की अस्मत खातिर कोर्ट ने यह उपाय सुझाए
आपस में विद्वेष मिटाओ,पर मजहबी मौन लगाए बैठे हैं।

एक बार कोलाहल उठेगा फिर राम मंदिर बनवाने को
कभी हाथ-कभी कमल उठेगा,धर्म का राग जगाने को,
जाति-पांति-मजहब की बातें चलेंगी लोगों को उकसाने को
सत्ता पाने की खातिर नेता जनता पर घात लगाए बैठे हैं।

एक नया राग आलाप रहे हैं अब मंदिर बनवाने को
अब तक बना नहीं जो मंदिर कानून बनवाने को,
सुध-बुध कहाँ खो गई थी तब,जब सत्ता में वो आए थे
आया फिर चुनाव जब,खोल पिटारा आस लगाए बैठे हैं।

इतनी कूबत कहाँ किसी की,जो मंदिर बनवाएगा
जब मर्जी उनकी हो जाए,वहीं मंदिर बन जाएगा,
जो है जग के खेवनहार,उनकी नईया कौन पार लगाएगा
मंदिर बनेगा अवधपुरी में,जहां श्रीराम धूनी रमाए बैठे हैंll

परिचय-सत्येन्द्र प्रसाद साह का निवास जिला-चंदौली(उत्तर प्रदेश)में हैl इनका साहित्यिक उपनाम-सत्येन्द्र बिहारी हैl जन्म तारीख १७ मार्च १९८५ एवं जन्म स्थान-बिहार राज्य हैl ग्राम सैयदराजा निवासी श्री साह ने स्नातकोत्तर की शिक्षा पाई है और कार्यक्षेत्र-नौकरी हैl आपकी लेखन विधा-कविता हैl हिंदी का भाषा ज्ञान रखने वाले सत्येन्द्र बिहारी की लेखनी का उद्देश्य-हिंदी को समृद्ध करना हैl

Hits: 20

आपकी प्रतिक्रिया दें.