ऐवेंजर्स…रोमांच,एक्शन परम नायकों का जश्न

इदरीस खत्री
इंदौर(मध्यप्रदेश)
*******************************************************

दोस्तों,भारत में हॉलीवुड के परम नायकों का जश्न मना,जो लगी फ़िल्म ‘ऐवेंजर्स’ से सिनेमा हॉल में दिखा। हाल भरा होने के साथ ही दर्शकों का उत्साह देखते ही बन रहा था। हर परम अभिनेता(सुपर हीरो) के आने पर तालियां,सीटियां,चिल्ला-पों पूरी फिल्म में बनी हुई थी। वाकई,शुक्रवार को प्रदर्शित इस फिल्म से इनका जलवा भारतीय सिनेमाघरों में भी दिखा।
जब भी ताकत या राज करने का खेल शुरू होता है,या ‘मैं’ का खेल शुरू होता है तो हिंसा आना लाज़मी है।
कहानी यह है कि,थॉनोस टाइटन ग्रह वासी है जिसका सपना है पूरे ब्रह्मांड में जो ७ दैवीय मणियां है,उन्हें प्राप्त कर पूरे ब्रह्मांड पर राज करने का।
मार्वल स्टूडियो ने सारे ऐवेंजर्स को बड़ी खूबसूरती से जोड़ते हुए कहानी आगे बढ़ाई है।
जैसा कि हम पिछले भागो में देख चुके हैं,लोकी थॉर का भाई अंतरिक्ष मणी से कैसे अंतरिक्ष के दरवाजे खोलकर प्रलय धरती पर बुला लेता है,और अंत में थॉर लोकी को औऱ मणी को अपने ग्रह एस गार्ड ले जाता है।
तो थॉनोस का सफर शुरू होता है एस गार्ड ग्रह की बर्बादी से,थॉर थॉनोस के सामने घुटने टेके पड़ा हुआ है। थॉनोस पूरे ग्रह को बर्बाद कर चुका है। यहां से वह लोकी को मारकर मणी प्राप्त कर धरती की तरफ कूच करता है,क्योंकि यहां पर २ मणियां है। एक डॉ. स्ट्रेंज के पास,दूसरी विजन के पास।


थॉनोस के ४ सहयोगी-जिसमें प्रॉक्सी मिडनाइट,इबोतीनो,ब्लेक ड्रॉफ्,कर्नेस क्लेन इस कदर ताकतवर और मायावी दिखाए हैं कि परम नायक उनके आगे बौने लगते हैं।
कलेक्टर,जो सारी मणियों की जानकारी रखता है(जिसकी झलक गार्जियन ऑफ गैलेक्सी में है)उसे मारकर सभी मणियों की जानकारी के साथ हथियाने का सफर शुरू करता है।
लोकी से अंतरिक्ष मणि लेकर थॉनोस थॉर को मारा हुआ मानकर छोड़ आगे धरती की तरफ बढ़ जाता है,लेकिन थॉर ज़िंदा है जो बेहोश हालत में अंतरिक्ष में गार्जियन ऑफ गैलेक्सी दल को मिल जाता है। अब चूंकि,सबका दुश्मन एक ही है तो सभी मिलकर लड़ना तय करते हैं,लेकिन थॉर को हथौड़ा चाहिए तो गार्जियन दल में से राकेट,ग्रूट को लेकर निडावेलिया ग्रह पहुंचता है ताकि हथौड़ा फिर से बनवा सके।
यह वही ग्रह है,जिसने थॉनोस का पंजे वाला खोल बनाया था। इसमें सभी मणियों की ताकत समाती है और मणियां फ़ीट होकर थॉनोस को बलशाली बनाती है।
इधर धरती पर डॉक्टर स्ट्रेंज,मणी बचाने में आयरन मैन से मिलते हैं,और दल तैयार होता है। साथ ही विजन के माथे में लगी मणी बचाने की कवायद शुरू होती है।
दूसरी तरफ विजन और वांडा का प्यार दिखाया गया,जो बहुत कम वक्त में स्थापित कर दिया गया। विजन को सुरक्षा देने की दृष्टि से ब्लेक पैंथर पूरे ऐवेंजर्स दल को लेकर अपने ग्रह वकांडा पहुंच जाते हैं। यहां आधा दल,जिसमें कैप्टन अमेरिका भी शामिल है,पहुंचते हैं।
उधर थॉर अपने हथौड़े के लिए कोशिश करता है,और नया हथौड़ा पा लेता है। अब वकांडा में थॉनोस-ऐवेंजर्स के बीच युद्ध शुरू हो जाता है।
फ़िल्म का जज्बाती पक्ष यह है कि,  घमोरा थॉनोस की बेटी है,थॉनोस ऐसा मानता है,जबकि घमोरा अपने परिवार-ग्रह की बर्बादी का कारण थॉनोस को मानती है। थॉनोस घमोरा की बहन नेबेला को कैद रखता है कि केवल घमोरा जानती है कि आत्मा मणी कहां है। थॉनोस आत्मा मणी के लिए घमोरा को साथ लेकर वोरमिर ग्रह पहुंचता है।  आत्मा मणी आत्मा माँगती है तो थॉनोस घमोरा की बलि देकर आत्मा मणी प्राप्त कर लेता है। उसके कारण वह बेशुमार ताकत का मालिक बन जाता है,फिर डॉ. स्ट्रेंज की मणी,फिर विजन की मणी का क्रम आता है।
फ़िल्म ‘सिविल वार’ में आयरन मैन कैप्टन अमेरिका के लिए एक फोन छोड़ता है कि यदि एवेंजर्स को जोड़ना हो तो सम्पर्क हो सके। इस फ़िल्म में उस फ़िल्म को जोड़ा गया है। यही मार्वल की फिल्मों की खूबसूरती होती है कि सारी फिल्मों की तारतम्यता बड़ी नफासत से जोड़ते हुए आगे बढ़ते हैं।
इस फ़िल्म का निर्देशन एंथोनी रूसो व जो रूसो ने किया है।
लाजवाब एनिमेशन सेबेस्टियन ने और फिल्मांकन किया है ट्रेंट ओपोलोच ने।
संगीत एलन शिवास्ट्री ने दिया है तो
फ़िल्म के विषय ब्रह्मांड पर विजय प्राप्त करना है तो पूरे ब्रह्मांड के साथ भांति-भांति के अंतरिक्ष विमान भी दिखाए गए हैं। वीएफएक्स आपका दिल थामने को मजबूर कर देंगे,और आंखें खुली की खुली रह जाएगी,क्योंकि फ़िल्म अनवरत है। इसका एक भाग और बचा है जो २०१९ में आएगा,जिसमें शायद थॉनोस का खात्मा हो।
पूरी फिल्म में जब-जब किसी परम अभिनेता का आना होता है तो दर्शकों का उत्साह चरम पर देखने को मिला। यहां तक कि नए परम अभिनेता ब्लेक पेंथर के देश वकांडा के आगमन पर भी तालियां,वाओ,सीटियां सुनाई दी। फ़िल्म में संवाद भी कहीं-कहीं हॉल में ठहाके बिखेरते दिखे।
यह फ़िल्म विश्व की सबसे महंगी फ़िल्म होने के साथ ही इसमें सबसे लोकप्रिय परम अभिनेताओं का जमावड़ा है तो हाउसफुल तो बनता है। दर्शकों में खास युवा ही दिखे,क्योंकि उनकी पसन्द द्वंद ,रोमांच और विज्ञान फंतासी फिल्में होती हैं। यदि यह फ़िल्म विश्व स्तर पर सबसे ज्यादा कमाई वाली फ़िल्म बनती है,तो कुछ गलत न होगा।

परिचय : इंदौर शहर के अभिनय जगत में १९९३ से सतत रंगकर्म में इदरीस खत्री सक्रिय हैं,इसलिए किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। परिचय यही है कि,इन्होंने लगभग १३० नाटक और १००० से ज्यादा शो में काम किया है। देअविवि के नाट्य दल को बतौर निर्देशक ११ बार राष्ट्रीय प्रतिनिधित्व नाट्य निर्देशक के रूप में देने के साथ ही लगभग ३५ कार्यशालाएं,१० लघु फिल्म और ३ हिन्दी फीचर फिल्म भी इनके खाते में है। आपने एलएलएम सहित एमबीए भी किया है। आप इसी शहर में ही रहकर अभिनय अकादमी संचालित करते हैं,जहाँ प्रशिक्षण देते हैं। करीब दस साल से एक नाट्य समूह में मुम्बई,गोवा और इंदौर में अभिनय अकादमी में लगातार अभिनय प्रशिक्षण दे रहे श्री खत्री धारावाहिकों और फिल्म लेखन में सतत कार्यरत हैं। फिलहाल श्री खत्री मुम्बई के एक प्रोडक्शन हाउस में अभिनय प्रशिक्षक हैंl आप टीवी धारावाहिकों तथा फ़िल्म लेखन में सक्रिय हैंl १९ लघु फिल्मों में अभिनय कर चुके श्री खत्री का निवास इसी शहर में हैl आप वर्तमान में एक दैनिक समाचार-पत्र एवं पोर्टल में फ़िल्म सम्पादक के रूप में कार्यरत हैंl 

Hits: 20

आपकी प्रतिक्रिया दें.