ओ बदली

हेमलता पालीवाल ‘हेमा’
उदयपुर (राजस्थान )
****************************************************
यूँ न गरजाकर ओ पागल बदली,
मेरे शहर की आँधी कहीं तेरी राह न बदल दे।
जरा सम्भल कर आना तू,मेरे शहर में,
तेरे चाहने वाले तेरी राह तकते हैं।
आँधियों का काम ही है उजाड़ना,
बसेरों को फूँक से उजाड़ देती है।
बड़ी मुश्किलों से राहत की बारिश होती है,
तपते बदन को ही तेरी आरजू होती है॥
परिचय – हेमलता पालीवाल का साहित्यिक उपनाम – हेमा है। जन्म तिथि -२६ अप्रैल १९६९ तथा जन्म स्थान – उदयपुर है। आप वर्तमान में सेक्टर-१४, उदयपुर (राजस्थान ) में रहती हैं। आपने एम.ए.और बी.एड.की शिक्षा हासिल की है। कार्यक्षेत्र-अध्यापन का है। लेखन विधा-कविता तथा व्यंग्य है। आपकी लेखनी का उद्देश्य-  साहित्यिक व सामाजिक सेवा है। 

Hits: 61

आपकी प्रतिक्रिया दें.