गैरों की भीड़

रेणू अग्रवाल
हैदराबाद(तेलंगाना)
**************************************************************
आशियाँ प्यार का बनाये नहीं बनता।
कौन-सी राह पकडूँ सुझाये नहीं सूझता।
ज़िन्दगी की दोपहर ढलते-ढलते ढल गई,
मुक़द्दर ऐसा है कुछ सुनाऊँ नहीं सुनता।
आई जीवन की शाम लेकर खुशियाँ तमाम,
गैरों की भीड़ में सपनों को कौन है बुनता।
बेगानों ने छीन लिया अपनापन सारा,
अब अपनों में अपनों को कौन है पूछता।
गीत पुराने भुला चुके ये नये लोग,
पुराने गीतों को कौन है गुनता॥
परिचय-रेणू अग्रवाल की जन्म तारीख ८ अक्टूबर १९६३ तथा जन्म स्थान-हैदराबाद है। रेणू अग्रवाल का निवास वर्तमान में हैदराबाद(तेलंगाना)में है। इनका स्थाई पता भी यही है। तेलंगाना राज्य की वासी रेणू जी की शिक्षा-इंटर है। कार्यक्षेत्र में आप गृहिणी हैं। सामाजिक गतिविधि के तहत समाज में शाखा की अध्यक्ष रही हैं। लेखन विधा-काव्य(कविता,गीत,ग़ज़ल आदि) है। आपको हिंदी,तेलुगु एवं इंग्लिश भाषा का ज्ञान है। प्रकाशन के नाम पर काव्य संग्रह-सिसकते एहसास(२००९) और लफ़्ज़ों में ज़िन्दगी(२०१६)है। रचनाओं का प्रकाशन कई पत्र-पत्रिकाओं में ज़ारी है। आपको प्राप्त सम्मान में सर्वश्रेष्ठ कवियित्री,स्मृति चिन्ह,१२ सम्मान-पत्र और लघु कथा में प्रथम सम्मान-पत्र है। आप ब्लॉग पर भी लिखती हैं। इनकी विशेष उपलब्धि-गुरुजी से उज्जैन में सम्मान,कवि सम्मेलन करना और स्वागत कर आशीर्वाद मिलना है। रेणू जी की लेखनी का उद्देश्य-कोई रचना पढ़कर अपने ग़म दो मिनट के लिये भी भूल जाए और उसके चेहरे पर मुस्कान लाना है। इनके लिए प्रेरणा पुंज-हर हाल में खुशी है। विशेषज्ञता-सफ़ल माँ और कवियित्री होना है,जबकि रुचि-सबसे अधिक बस लिखना एवं पुरानी फिल्में देखना है।

Hits: 3

आपकी प्रतिक्रिया दें.