तब तक दीवाली बाकी है..

मधु शंखधर ‘स्वतंत्र’ 
इलाहाबाद(उत्तर प्रदेश)

*********************************************************************

अधर मधुर मुस्कान नहीं,तब तक दीवाली बाकी है,
माँ धरती खुशहाल नहीं,तब तक दीवाली बाकी है।
दूर हो गए ललने माँ के,यादों में वो खोई है,
पास बहुत होकर है दूरी,सोच-सोचकर रोई है।
माँ की आँख में आँसू है,तब तक दीवाली बाकी है,
अधर मधुर मुस्कान नहीं…॥
नारी का सम्मान नहीं है,भोग विलास समाया है,
आधुनिकता की ओट में खोकर,अब अस्तित्व गिराया है।
नारी अस्मत खतरे में,तब तक दीवाली बाकी है,
अधर मधुर मुस्कान नहीं…॥
भूखा बचपन सड़कों पर,जब हाथ पसारे रहता है,
अन्तर्मन की पीड़ा भारी,नहीं किसी से कहता है।
भूख गरीबी लाचारी,तब तक दीवाली बाकी है,
अधर मधुर मुस्कान नहीं…॥
मात-पिता की पीड़ा भारी,वृद्धाश्रम ही डेरा है,
जीवन पर कर्तव्य निभाया,आज विवश का घेरा है।
वृद्धाश्रम जब तक कायम,तब तक दीवाली बाकी है,
अधर मधुर मुस्कान नहीं…॥
तनय यदि कुल की शोभा है,तनया फिर क्यूँ भारी है,
यह विभेद उपजा था मन में,आज तलक क्यूँ जारी है।
भ्रूण हन्ता धरती पर हैं,तब तक दीवाली बाकी है,
अधर मधुर मुस्कान नहीं…॥
जाति-पाति और आर्थिक अंतर,मन से भेद कराता है,
धनी सदा से निर्धन को,स्वामित्व भाव दिखाता है।
समता का रस भाव नहीं,तब तक दीवाली बाकी है,
अधर मधुर मुस्कान नहीं…॥
प्रकृति का है रूप मनोहर,जीवन रस दे जाती है,
हानि इसे पहुँचाते जाते,फिर भी यह मुस्काती है।
प्रकृति सुरक्षा भाव नहीं,तब तक दीवाली बाकी है,
अधर मधुर मुस्कान नहीं…॥
भारत की धरती पर जन्मे,स्वदेशी अपनाओ सब,
माटी का दीपक घर लाओ,रोशन देश कराओ तब।
देशप्रेम की लौ ना हो,तब तक दीवाली बाकी है,
अधर मधुर मुस्कान नहीं…॥
दिवस दशहरा रात दीवाली,घर-घर रोज मनाएँ हम,
सत्य,अहिंसा,नेह का दीपक,सदभाव से सदा जलाएँ हम।
खुशहाली जन-जन में छाए, ‘मधु’-सी दीवाली बाकी है,
अधर मधुर मुस्कान नहीं…॥
अधर मधुर मुस्कान नहीं,तब तक दीवाली बाकी है।
माँ धरती खुशहाल नहीं,तब तक दीवाली बाकी है॥
परिचय-मधु शंखधर का उपनाम ‘स्वतंत्र’ हैl जन्म १५ अगस्त को इलाहाबाद में हुआ हैl शिक्षा-स्नात्कोत्तर(हिन्दी,इतिहास)हैl
लेखन विधा-गद्य,पद्य कथा,कविता,नवगीत,सामयिक लेख, निबंध,यात्रा वृतांत इत्यादि हैl विभिन्न राष्ट्रीय स्तरीय पत्र- पत्रिकाओं में इनकी रचनाओं का निरन्तर प्रकाशन हुआ हैl आपको सम्मान में मेघालय के राज्यपाल द्वारा गोयनका स्मृति सम्मान पत्र व महाराज कृष्ण जैन सम्मान पत्र और शांति देवी अग्रवाल स्मृति सम्मान पत्र इत्यादि प्राप्त है। आपका कार्य क्षेत्र अध्यापन हैl इनका निवास ममफोडगंज इलाहाबाद(उत्तर प्रदेश)हैl

Hits: 15

आपकी प्रतिक्रिया दें.