तलाश

वन्दना शर्मा
अजमेर (राजस्थान)

***********************************************************************

तलाश है दीवाली पर,सौंधी मिट्टी से महकते आँगन की
रंगोली मांडने,सफेदी,रंग-रोगन की,
तलाश है कतार में जाती पनिहारिनों और
खिलखिलाते पनघटों की,
तलाश है उन बुनियादी दरख्तों की
उनके कंधों पर झूलती बेखौफ ललनाओं की,
माटी के घरोंदों में ढलती कल्पनाओं की
नुक्कड़ नाटक और मदारी के खेलों की,
अल्हड़ बचपन और रंगीन मेलों की
तलाश है भीड़ भरी चौपालों की,
गीत,भजन,ठुमरी,खेल,ख्यालों की
तलाश है चक्की के मधुर संगीत की,
होली के खेल और गलियों में बेधड़क खेलते बचपन की
तलाश है दोने-पत्तल की पन्गतों की,
महकते कुल्हड़ और रामझारे के पानी की
तलाश है पतंग उड़ाती छतों की,
भगवान के नाम लिखे खातों की
तलाश है पुस्तकों में विद्या बढ़ाने के लिए रखे रंगीन पंखों की,
तलाश है यज्ञ की आहुतियों की
संस्कृत बोलते विभूतियों की,
तलाश है रोबोटों के बीच इंसान की
आदमियों से कतराती आदमियत की,
तलाश है छाया प्रतियों से बनी छाया प्रतियों में
ईश्वर की बनाई पहली प्रति की।
परिचय-वंदना शर्मा की जन्म तारीख १ मई १९८६ और जन्म स्थान-गंडाला(बहरोड़,अलवर)हैl वर्तमान में आप पाली में रहती हैंl स्थाई पता-अजमेर का हैl राजस्थान के अजमेर से सम्बन्ध रखने वाली वंदना शर्मा की शिक्षा-हिंदी में स्नातकोत्तर और बी.एड. हैl आपका कार्यक्षेत्र-नौकरी के लिए प्रयासरत होना हैl लेखन विधा-मुक्त छंद कविता हैl इनकी लेखनी का उद्देश्य- स्वान्तःसुखाय तथा लोकहित हैl जीवन में प्रेरणा पुंज-गुरुजी हैंl वंदना जी की रुचि-लेखन एवं अध्यापन में हैl

Hits: 37

आपकी प्रतिक्रिया दें.