तृष्णा

निर्मल कुमार जैन ‘नीर’ 
उदयपुर (राजस्थान)
************************************************************
मन में तृष्णा,
फिर कैसे मिलेंगे
प्रभु श्री कृष्णा।

मोह से बच,
कल्याण हो जाएगा
यही है सच।

ईश को भज,
भवसागर में डूबा
लोभ को तज।

लालच छोड़,
संतोष श्रेष्ठ धन
जीवन मोड़।

जीने की चाह’
महत्वाकांक्षा बढ़ी
निकली आह।

परिचय-निर्मल कुमार जैन का साहित्यिक उपनाम ‘नीर’ है। आपकी जन्म तिथि ५ मई १९६९ और जन्म स्थान-ऋषभदेव है। वर्तमान पता उदयपुर स्थित हिरणमगरी (राजस्थान)एवं स्थाई गोरजी फला ऋषभदेव जिला-उदयपुर(राज.)है। आपने हिंदी और संस्कृत में स्नातकोत्तर किया है। कार्य क्षेत्र-शिक्षक का है।  सामाजिक व धार्मिक गतिविधियों में निरंतर सहभागिता करते हैं। श्री जैन की लेखन विधा-हाइकु,मुक्तक तथा गद्य काव्य है। लेखन में प्रेरणा पुंज-माता-पिता और धर्मपत्नी है। रचनाओं का प्रकाशन विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में हुआ है। इनकी लेखनी का उद्देश्य-हिंदी भाषा को समृद्ध व प्रचार-प्रसार करना है। 

Hits: 12

आपकी प्रतिक्रिया दें.