मिलने के बाद 

अकबर खान 

उदयपुर(राजस्थान)

***********************************************************

चाहत नहीं कुछ तुझसे मिलने के बा

अरमान पूरे हुए तुझसे मिलने के बाद। 

ख़ुशबू जैसे गुलाब की खिलने के बाद

छुपता नहीं इश्क़ नज़रें मिलने के बाद। 

आते ही करते हो क्यूँ चलने की बात,

रुकता नहीं वक़्त तुझसे मिलने के बाद। 

जाने की ज़िद तेरी हमसे मिलने के बाद

जाओ तो जाना पर दिल मिलने के बा। 

बदनाम होंगे, इश्क़ तुझसे करने के बाद

चर्चा ए इश्क़ है तुझसे मिलने के बाद। 

वादा तो कर तू साथ निभाने का ‘शाद’,

ख़ुश रहेंगे सदा तुझसे मिलने के बाद ॥

परिचय-अकबर खान  को शायर अकबर खान कहलाना पसंद है। जन्म तिथि २ जुलाई १९८० एवं जन्म स्थान-बनारस है। वर्तमान पता उदयपुर स्थित  श्याम नगर(भुवाणा)है। राजस्थान का यही शहर उदयपुर आपका स्थाई निवास है। श्री खान ने कम्प्यूटर अभियंता सहित व्यापार प्रशासन में स्नातकोत्तर और व्यापार प्रबंधन में भी स्नातकोत्तर डिप्लोमा प्राप्त किया है। आपका कार्यक्षेत्र-व्यवसाय है। सामाजिक गतिविधि के अंतर्गत आप हिंदी शायरी को बढ़ावा देने के लिए समय-समय पर हिंदी कविता का आयोजन करवाते हैं। लेखन विधा-शेर,रचना और ग़ज़ल है। ब्लॉग पर भी लिखने वाले श्री खान की रचनाओं का   प्रकाशन पत्र-पत्रिकाओं में हुआ है। अकबर खान की लेखनी का उदेश्य-हिंदी भाषा में ग़ज़ल-गीत को बढ़ावा देना है। 

Hits: 15

आपकी प्रतिक्रिया दें.