राग-विराग

आदेश कुमार गुप्ता `पंकज`
 रेणुसागर(उत्तरप्रदेश)

******************************************************

मन में आप रखें नहीं कोई राग-विराग।
राम नाम सबसे भला उनसे रख अनुरागll
रज कण जैसे ही मिले निर्मल कर दे नीर।
शीतल जल ऐसा लगे जैसे मलय समीरll
प्रेम भाव से ही बढ़ें नित-नित नव सम्बंध।
हो जाते मजबूत हैं सबके सब अनुबन्धll
नित नव गायन से सदा सुमधुर होता कंठ।
पंकज मिलता है शिखर निष्कंटक हो पंथll
राम नाम पल-पल जपें सुबह-शाम दिन-रात।
जीवन की सबसे बड़ी `पंकज` यह सौगातll
कर्म-धर्म करते रहें जीवन का यह सारl
`पंकज` इसको मानिए सच्चा इक आधारll
वर-वधू को सराहिए दीजे शुभ आशीष।
करिए मंगल कामना पंकज बन जगदीशll
घर वर सुंदर जो मिले सदा भाग निज मान।
ऐसे रिश्तों पर सदा करें नाज अभिमानll
छल-कल से बिगड़ें सदा आपस के सम्बंध।
`पंकज` छोटी बात पर नहिं तोड़ें अनुबन्धll
छल-बल करते जीतते जीवन का संग्राम।
`पंकज` पाते हो नहीं फिर भी तुम आरामll
गुम-सुम क्यों बैठे हुए कुछ तो कहिए तात।
सच तो सच रहता सदा काहे चुप रह जातll
सुध-बुध को खोएं नहीं होएं नहीं अधीर।
`पंकज` संकट में रहो सदा आप गम्भीरll 

परिचय-आदेश कुमार गुप्ता `पंकज` की जन्म तिथि ३० जून १९६३ हैl आपकी शैक्षिक योग्यता एम.ए.(अर्थशास्त्र), एम.एस-सी.(गणित शास्त्र) तथा बी.एड.हैl साहित्यिक उपलब्धि के रूप में २०० से अधिक पत्र-पत्रिकाओं मेंं बाल कविताएं,बाल कहानियाँ तथा अन्य कविताएं प्रकाशित होना हैl आकाशवाणी(लखनऊ) से बच्चों द्वारा आपकी बाल कविताओं का वाचन किया गया है। श्री गुप्ता कवि सम्मेलनों में अध्यक्षता करते हैं और यही सम्मान है। आपके खाते में साझा काव्य संग्रह-दोहा कलश,कस्तूरी कंचन,नूर-ए- ग़ज़ल,कविता अनवरत,काव्य कलश आदि में कविताएं प्रकाशित होना हैl सम्मान के रूप में आपको वैश्य श्री,काव्य कलश सम्मान,काव्य रत्न के साथ ही श्रेष्ठ अध्यापक  का सम्मान(केन्द्रीय शिक्षा मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी द्वारा), आगमन सम्मान,हिन्दी साहित्य सेवी सम्मान,प्रतिज्ञा सम्मान,दोहा शतकवीर और कलम की सुगंध सम्मान-२०१८ आदि दिए गए गए हैंl आदेश कुमार गुप्ता `पंकज` का जन्म शाहजहाँपुर के मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ है। मध्यम श्रेणी के छात्र होकर भी आप श्रेष्ठ अध्यापक(गणित शास्त्र) के रुप में स्थापित हुए हैं। काव्य के प्रति शुरू से ही रुझान होते हुए भी स्नातक स्तर पर आने के बाद लिखना प्रारम्भ कियाl आपने बाल कहानियाँ,बाल कविताएँ,गीत,ग़ज़ल तथा हास्य रस की कविताएं भी लिखीं हैं। आपका निवास उत्तर प्रदेश के रेणुसागर सोनभद्र में हैl 

Hits: 16

आपकी प्रतिक्रिया दें.