सच सरकार का

शिवांकित तिवारी’शिवा’
जबलपुर (मध्यप्रदेश)

********************************************************************

वो लोग जो सरकार में हैं,या सरकार खुद को मानते हैं,
जीतने के बाद..
न ही जनता की सुनते कभी फिर,न ही जनता को जानते हैं,
समस्याएं ढेर सारी,निराकरण मिलता नहीं,
जीतनें के बाद नेता,जनता की सुनता नहीं।
युवा बेरोजगार हैं,पढ़ा-लिखा बेकार है,
मिलता न रोजगार हैं,ऐसे नेता और सरकार हैं।

झूठे वादे,घोषणाएं करते हैं लाखों मगर,
लोग भूखे मर रहे हैं,बेअसर सरकार है।
किसानों को लालच देकर करती झूठे वायदे,
जीतने के बाद सारे भूल जाती कायदे
देखती सरकार केवल सिर्फ अपने फायदे,
कुर्सी पे बैठा हुआ हर नेता गद्दार है
जनता को गुमराह करके चला रहा सरकार है।

लाखों समस्याओं से,जूझती हैं जनता इस देश में,
नेताजी तो ऐश करते-घूमते हैं विदेश में
दोहरे चेहरे हर नेता के हैं इस देश में,
छल रहे हैं सिर्फ जनता को नेताओं के भेष में
जुमलेबाज,भ्रष्टाचारी ऐसे नेता को धिक्कार हैं,
जनता की न मदद करती कोई भी सरकार हैं।

पाँच साल बाद,
आती फिर जनता की याद
करते हैं फिर बातें और वादे इस बार होगा बदलाव,
बस करिये इस बार सहयोग और जिताइये चुनाव
भर-भर के परोसते हैं फिर सबको शाही पुलाव,
अब ऐसे नेताओं से बचना जो भ्रष्ट और लाचार हैं,
‘मत’ देना उसको ही जो सच्चा,अच्छा समझदार है।

मतदान के लिये..
जागो जनता,दिखाओ क्षमता होकर नक्कालों से सावधान।
अपना अधिकार जान,अच्छे नेता की कर पहचान,इस बार करो सभी मतदान॥

परिचय-शिवांकित तिवारी का उपनाम ‘शिवा’ है। जन्म तारीख १ जनवरी १९९९ और जन्म स्थान-ग्राम-बिधुई खुर्द (जिला-सतना,म.प्र.)है। वर्तमान में जबलपुर (मध्यप्रदेश)में बसेरा है। मध्यप्रदेश के श्री तिवारी ने कक्षा १२वीं प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की है,और जबलपुर से आयुर्वेद चिकित्सक की पढ़ाई जारी है। विद्यार्थी के रुप में कार्यरत होकर सामाजिक गतिविधि के निमित्त कुछ मित्रों के साथ संस्था शुरू की है,जो गरीब बच्चों की पढ़ाई,प्रबंधन,असहायों को रोजगार के अवसर,गरीब बहनों के विवाह में सहयोग, बुजुर्गों को आश्रय स्थान एवं रखरखाव की जिम्मेदारी आदि कार्य में सक्रिय हैं। आपकी लेखन विधा मूलतः काव्य तथा लेख है,जबकि ग़ज़ल लेखन पर प्रयासरत हैं। भाषा ज्ञान हिन्दी का है,और यही इनका सर्वस्व है। प्रकाशन के अंतर्गत किताब का कार्य जारी है। शौकिया लेखक होकर हिन्दी से प्यार निभाने वाले शिवा की रचनाओं को कई क्षेत्रीय पत्र-पत्रिकाओं तथा ऑनलाइन पत्रिकाओं में भी स्थान मिला है। इनको प्राप्त सम्मान में-‘हिन्दी का भक्त’ सर्वोच्च सम्मान एवं ‘हिन्दुस्तान महान है’ प्रथम सम्मान प्रमुख है। यह ब्लॉग पर भी लिखते हैं। इनकी विशेष उपलब्धि-भारत भूमि में पैदा होकर माँ हिन्दी का आश्रय पाना ही है। शिवांकित तिवारी की लेखनी का उद्देश्य-बस हिन्दी को वैश्विक स्तर पर सर्वश्रेष्ठता की श्रेणी में पहला स्थान दिलाना एवं माँ हिन्दी को ही आराध्यता के साथ व्यक्त कराना है। इनके लिए प्रेरणा पुंज-माँ हिन्दी,माँ शारदे,और बड़े भाई पं. अभिलाष तिवारी है। इनकी विशेषज्ञता-प्रेरणास्पद वक्ता,युवा कवि,सूत्रधार और हास्य अभिनय में है। बात की जाए रुचि की तो,कविता,लेख,पत्र-पत्रिकाएँ पढ़ना, प्रेरणादायी व्याख्यान देना,कवि सम्मेलन में शामिल करना,और आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति पर ध्यान देना है।

Hits: 16

आपकी प्रतिक्रिया दें.