साहित्य और संस्कृति से संवरता है देश और समाज

वाराणसीl

देश व समाज साहित्य और संस्कृति से संवरता है l भाषा शैली से ही व्यक्ति की पहचान होती है। यह विचार जनचेतना साहित्यिक सांस्कृतिक समिति (बीसलपुर पीलीभीत) के राष्ट्रीय अध्यक्ष कौशल कुमार पाण्डेय `आस` ने जिला इकाई वाराणसी के उद्धाटन एवं ईद मिलन समारोह में सदभावना साहित्यिक मासिक काव्य गोष्ठी में मुख्य अतिथि पद से व्यक्त किएl वसही स्थित सत्यमा स्कूल में आयोजित इस गोष्ठी में बीसलपुर पीलीभीत से आए दिलीप कुमार पाठक `सरस` ने जिला इकाई वाराणसी के जिलाध्यक्ष डॉ. लियाकत अली `जलज` एवं सचिव संतोष कुमार `प्रीत` को अंग वस्त्र एवं स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया। गीता की पुस्तक भी दी गईl समारोह में कवि एवं कवियित्रियों को श्रेष्ठ कलमवीर सम्मान देकर सम्मानित किया गया। इसमें मशहूर ग़ज़लकार सिद्धनाथ शर्मा,राजेंद्र प्रसाद गुप्त `बावरा`,भुल्लकड़ बनारसी,आशिक बनारसी,शायरा नसीमा नसीर,डॉ. उमेश वर्मा,डाॅ.ब्रजेन्द्र द्विवेदी `शैलेश`,भोलानाथ त्रिपाठी `विह्वल` आदि शामिल रहे। गोष्ठी की शुरूआत मध्यप्रदेश से आए नीतेन्द्रसिंह परमार `भारत` ने सरस्वती वंदना `मातु वीणावादनी हो` सुनाकर की। संचालन छतिस कुमार द्विवेदी `कुण्ठित` ने किया। सभी कवियों ने अपनी सुन्दर रचनाओं से सबको मंत्रमुग्ध कर दिया। काव्य पाठ में आशिक बनारसी,सिद्धनाथ शर्मा,डॉ.श्याम किशोर पाण्डेय,इमरान बनारसी,चन्द्रभूषण सिंह,खलील अहमद राही ने अतिथियों को काशी समाज रत्न अलंकरण देकर सम्मानित कियाl सभी अतिथियों का स्वागत एवं धन्यवाद वाचन डॉ. लियाकत अली `जलज` ने किया।

Hits: 28

आपकी प्रतिक्रिया दें.