हे! ईश्वर मुझे नेता बनवा दो

संजयसिंह राजपूत
दादर(उत्तर प्रदेश)

*********************************************************

हे! ईश्वर ऐसा वर दो मैं भी नेता बन जाऊं,
घोटाले पर घोटाला कर संपत्ति अथाह जुटाऊं।
अपना सारा कालधन विदेशों में जमा कराऊं,
गाड़ी,बंगला लेकर मैं,परियों संग मस्ती उड़ाऊं॥

चुनावी वादों को मैं पांच साल के लिए भूल जाऊं,
जनता मुझसे सवाल ना करें ऐसा मैं धमकाऊं।
जहां जिनकी जनसंख्या हो,धर्म वही अपनाऊं,
ईमानदार नेता को भी मैं,बड़ा भ्रष्टाचारी बतलाऊं॥

माफिया भी मेरे पांव पूजे सबका सरदार मुझे बनवा दो,
कृपा करो हे दीनदयाला जनता का प्रभु मुझे बनवा दो।
होत प्रात: मैं रोजाना आपके मंदिर में आऊंगा,
घोटाले के पैसों से नित छप्पन भोग लगवाऊंगा॥

चिंता ना करें मेरे प्रभुवर आपको टेंट में नहीं रहने दूंगा,
अकबर की औलादों को नहीं अयोध्या में रहने दूंगा।
सारी जनता त्रस्त होगी और मैं मदमस्त होकर,
पत्थर का यह मुकुट हटा स्वर्ण मुकुट लगाऊंगा॥

परिचय: संजयसिंह राजपूत की जन्मतिथि-१० जून १९९० और जन्म स्थान-दादर है। आप वर्तमान में ग्राम-दादर(तहसील-सिकंदरपुर,बलिया)में ही बसे हुए हैं। उत्तर प्रदेश से नाता रखने वाले श्री सिंह की शिक्षा-एम.ए. (हिंदी) है। आप कार्यक्षेत्र में शिक्षक होने के साथ ही सामाजिक क्षेत्र में महावीर धाम सोसायटी(दादर)से जुड़कर सक्रिय हैं। लेखन विधा में कविता,लेख और कहानी लिखते हैं। ब्लॉग पर भी लेखन में सक्रिय श्री राजपूत के लेखन का उद्देश्य-सामाजिक बदलाव लाना है। 

Hits: 11

1 Comment

आपकी प्रतिक्रिया दें.