कविता

6 views

सफ़र

मानकदास मानिकपुरी ‘ मानक छत्तीसगढ़िया’  महासमुंद(छत्तीसगढ़)  ************************************************** रोज-रोज बढ़ रहे हैं हम तो एक सफ़र में, सुख-दु:ख का...

4 views

शुभकामनाएँ

रमेश चौरिया राही कवर्धा (छत्तीसगढ़) ****************************************************************************** शुभकामनाएँ तुम्हें मिले, सदा रहो खुशहाल। दिल से मेरा है आशीष, कर लो...

9 views

मैं नारी हूँ

डॉ.अ‍र्चना दुबे  मुम्बई (महाराष्ट्र) ************************************************************************** मैं नारी हूँ,मैं नारी हूँ, अत्याचारों पर मैं भारी हूँ मैं अंत नहीं...

6 views

गणतंत्र

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** गणतंत्र दिवस विशेष……….. आया दिवस गणतंत्र है, फिर तिरंगा लहराएगा राग विकास...

7 views

बेटियाँ,

संजय वर्मा ‘दृष्टि’  मनावर(मध्यप्रदेश) ********************************************************************************** बेटियाँ, बाबुल से आती चिट्ठी पढ़कर खुश होती-रोती भी, बाबुल की यादों को...

5 views

कोई धर्म नहीं…!

 पूजा हेमकुमार अलापुरिया ‘हेमाक्ष’ मुंबई(महाराष्ट्र) **************************************************************************** संघर्ष न हो राह में जीने में कोई मजा नहीं, तूफानों से...

13 views

सरहद पर

शंकरलाल जांगिड़ ‘शंकर दादाजी’ रावतसर(राजस्थान)  *********************************************************************************- आज किसी दुश्मन की सरहद पर शामत आई है, वीर बाँकुरे शेरों...

12 views

राष्ट्र वंदन

मधुसूदन गौतम ‘कलम घिसाई’ कोटा(राजस्थान) *****************************************************************************  (रचना शिल्प:सम्पूर्ण प्रदेशों के नाम राष्ट्र वंदन में करने की कोशिश, सहायक धुन-चांदी...

10 views

मन की व्यथा

मनोरमा जोशी ‘मनु’  इंदौर(मध्यप्रदेश)  **************************************************** भाव रूठे,गीत फिर कैसे सुनाऊँ, तार टूटे,वीणा को कैसे बजाऊँ। बाँध पाया कौन...

6 views

स्वर्ण चिरैया

बबिता चौबे ‘शक्ति’  दमोह (मध्यप्रदेश) *************************************************************** आँगन की मैं स्वर्ण चिरैया घर-घर में मैं रहती हूँ, कहीं बहू...