ग़ज़ल

19 views

काश ,भाईचारा निभा पाते

संध्या चतुर्वेदी ‘काव्य संध्या’ अहमदाबाद(गुजरात)  ****************************************************************** काश कि,इन मुर्दा लाशों में से किसी को जगा पाते। देश मेरा...

34 views

चाहत की धारा

पुष्पा अवस्थी ‘स्वाति’  मुंम्बई(महाराष्ट्र) *********************************************** पलकों पे मोतियों का नजारा फिर हो न होl यूं मरमरी बाँहों का...

33 views

सहरा

ओमप्रकाश बिन्जवे `राजसागर` भोपाल(मध्यप्रदेश) *************************************************************************** सहरा है नसीब में,वीराने में कोई घर नहीं। दिल है तन्हां-तन्हां,कोई मेरा हमसफ़र...

70 views

चलो दीवाना बन जाएं

प्रदीपमणि तिवारी `ध्रुव भोपाली` भोपाल(मध्यप्रदेश) ********************************************************************************************* सुनो यारा ये सावन में चलो दीवाना बन जाएं। सुहानी वादियाँ साहिल...

34 views

उसका दिल पत्थर हमेशा

वकील कुशवाहा `आकाश महेशपुरी` कुशीनगर(उत्तर प्रदेश) ****************************************************************** जिसे देखता हूँ मैं छिपकर हमेशा, कि उसका रहा दिल है...

63 views

जो रहे हमक़दम हर क़दम

अब्दुल हमीद इदरीसी ‘हमीद कानपुरी’ कानपुर(उत्तर प्रदेश) ***************************************************** शक से देखी गई भूमिका हर क़दम। ढूँढते जो रहे...

49 views

नहीं मिलता सहारा

प्रदीपमणि तिवारी `ध्रुव भोपाली` भोपाल(मध्यप्रदेश) ********************************************************************************************* हमारी आबरू गर है जमाना फिर हमारा है। सभी का खैर मकदम...

50 views

पत्थर

ओमप्रकाश बिन्जवे `राजसागर` भोपाल(मध्यप्रदेश) *************************************************************************** कब तलक भटके,के अब घर जरूरी है। कैसे जिएँ तन्हा,के हमसफ़र जरूरी है।...

71 views

खार भी आ गए हिफाजत को

लक्ष्मण दावानी जबलपुर(मध्यप्रदेश) **************************************************************** सर झुका जब मेरा इबादत को, खार भी आ गए हिफाजत को। चंद कतरे...

83 views

तू बेजुबां होकर भी वफ़ा करता है

प्रभात कुमार दुबे(प्रबुद्ध कश्यप) देवघर(झारखण्ड) *********************************************** तू बेज़ुबां होकर वफ़ा करता है, जमाना जुबां से धोखा करता है।...