गीत

9 views

बारूद उड़ाना सिखाइये…

डॉ.दिलीप गुप्ता घरघोड़ा(छत्तीसगढ़) ******************************************************** धर्म की दुकान खोलकर...माथ पे तिलक लगाइए, भय दिखा के...भ्रम औ ढोंग के,सामान बेच...

10 views

चलते रहना

दीपा गुप्ता ‘दीप’ बरेली(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** असंख्य ज्योति पुंजों की ज्वाला-सा जो धधक रहा है, हर पल जो...

16 views

धड़कते दिल

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** धड़कते दिल, धड़कन से आवाज आती है, तू जिंदगी की का चिराग-बाती...

10 views

नववर्ष की नवल संभावनाएँ

अनुपम आलोक उन्नाव(उत्तरप्रदेश) ****************************************************************** नव वर्ष विशेष ............................ बता आगत, क्या नवल संभावनाएँ ला सकेगा ...? दंश सुधियों...

5 views

बढ़ा कदम

सपना सक्सेना  ग्रेटर नोएडा(उत्तर प्रदेश) ************************************************ नववर्ष विशेष...................................... एक नई शुरुआत कर,बढ़ा कदम, न मुश्किलों की बात कर,बढ़ा...

12 views

नया वर्ष

कैलाश मंडलोई ‘कदंब’ रायबिड़पुरा(मध्यप्रदेश) ************************************************************ नववर्ष विशेष...................... हर्ष-हर्ष है,नया वर्ष, आओ मनाएं नया वर्ष॥ गीत नया,संगीत नया, स्वप्न...

21 views

हिंदुस्तानियों को सन्देश…

डॉ.दिलीप गुप्ता घरघोड़ा(छत्तीसगढ़) ******************************************************** नववर्ष विशेष ..................... जागो हिन्द सपूतों,दुनिया हिन्द रीत से जोड़ो, अंग्रेजों के रीत-रस्म से...

22 views

हे माँ…मेरे उर की आवाज

डॉ.विद्यासागर कापड़ी ‘सागर’ पिथौरागढ़(उत्तराखण्ड) ****************************************************************************** मेरी रचना अनग पड़ी है, वीणा वादिनि नग दे दो। जिस पथ चलकर...

17 views

समर्पण

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** तुम नेहनयन की आशा हो, तुम जीवन की परिभाषा हो। तुम हो देवी...

9 views

कहाँ बनाये बया घोंसला

शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी’ मेरठ (उत्तरप्रदेश) ****************************************************** कहाँ बनाये बया घोंसला, कहाँ छिपाए चोंच। जलाशयों के सरकंडों के उजड़...