गीत

15 views

वीर सैनिक

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* वीर देश का सैनिक हूँ, देश के हित मिट जाऊँगाl जिस माटी में...

61 views

वन्दे भारतम्

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) *************************************************************************************** सुविधाम्,सुसंकारम्,कैलाश शीतलाम्, राम-रहीम मातरम्,भारतम् उज्ज्वलम्। सरस्वती कंठम् ,गंगाम् न वर्ण भेदम्, यमुना की बहती...

15 views

आज़ादी सबकी जिम्मेदारी

डॉ.दिलीप गुप्ता घरघोड़ा(छत्तीसगढ़) ******************************************************** सरकारी भवनों,चौराहों,देशप्रेम के बजते गीत, विजय पताका फहर रही है,आज़ादी का दे संगीत। मुक्त...

29 views

आलस्‍य तज तू

डॉ.गोपाल कृष्‍ण भट्ट ‘आकुल’ महापुरा(राजस्‍थान) *************************************************************************************** (रचना शिल्प:मापनी-२१२२  २१२२  २१२२  २१२२,पदांत-की,समांत-असी) कर्म कर आलस्‍य तज तू,तोड़ छवि तू...

36 views

मैं क्यूँ लिखता हूँ ?

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** मैं क्यूँ लिखता हूँ ? तेरी यादों की बरसात, तड़पाते दिन...

19 views

रण के प्रण से बंधे हुए…

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** जिनकी खातिर व्यक्ति नहीं ये देश समूचा अपना है, जिनकी आँखों मे पुण्य...

29 views

खोटे सिक्के

अविनाश तिवारी ‘अवि’ अमोरा(छत्तीसगढ़) ************************************************************************ हवाएं जो बदली कि नाविक किधर गए। जो बहके थे कल मदमस्त,आज पिघल...

30 views

तेरी अदा

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* साँवरी सूरतिया नैन कजरारे, तेरी अदा,पे हम दिल हारे। मोर मुकुट पीतांबर सोहे,...

32 views

तू ही इंसां

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** ऐ वक्त ठहर जा, कोई ख़ास अंदाज है आने वाला। तेरे लम्हों...

14 views

बारूद उड़ाना सिखाइये…

डॉ.दिलीप गुप्ता घरघोड़ा(छत्तीसगढ़) ******************************************************** धर्म की दुकान खोलकर...माथ पे तिलक लगाइए, भय दिखा के...भ्रम औ ढोंग के,सामान बेच...