राष्ट्रीय

17 views

योग क्या है ?

डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) ***************************************************** विश्व योग दिवस विशेष................................................ जिस भी जीव को शरीर मिला है,उसको स्वस्थ बनाने के...

89 views

प्राकृतिकता बनाम कृत्रिमता

लिली मित्रा फरीदाबाद(हरियाणा) **************************************************************** प्राकृतिकता ईश्वर की देन है,और कृत्रिमता मानव की। वह ईश्वर प्रदत्त हर स्वाभाविक वस्तु...

52 views

मजबूरी में जहर बेच रही माताएं

संजयसिंह राजपूत दादर(उत्तर प्रदेश) ********************************************************* मैं सपरिवार रविवार को रेलगाड़ी में बैठ हैदराबाद से वाराणसी जा रहा था।...

26 views

जागकर जगाने की जरूरत

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय ******************************************************************** हमें यह कहने में गर्व का अनुभव होता है कि हम भारत वर्ष...

17 views

मार्गदर्शक खुद भटक गए

डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) ***************************************************** मानव जीवन स्वयं दुखों का संसार है,संसार यानी संस्रण करना यानि भ्रमण,दुःख-सुख एक आभास...

18 views

भारत म़ें अनेकता में एकता

आशा जाकड़ ‘ मंजरी’ इन्दौर(मध्यप्रदेश) *********************************************************** `मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना। हिन्दी हैं हम वतन हैं,हिन्दोस्तां...

32 views

खट्टर सरकार का मानसिक आर्थिक दिवालियापन !

डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) *****************************************************              हरियाणा सरकार हमेशा विवाद ग्रस्त रहती है। कहावत...

13 views

भारत भाषा प्रहरी डॉ. जोगा सिंह

डॉ.एम.एल.गुप्ता ‘आदित्य’  मुम्बई (महाराष्ट्र) ********************************************************** पिछले कुछ समय से जो एक प्रवृत्ति देखने में आ रही है,वह यह...

22 views

संघ समारोह में मुखर्जी,रामकथा कही राम के आगे

राकेश सैन जालंधर(पंजाब) ***************************************************************** पूर्व राष्ट्रपति ने बहुप्रतीक्षित भाषण में कहा कि,भारत की आत्मा बहुलतावाद व उदारता में...

37 views

साहित्य समाज का मार्गदर्शक

शम्भूप्रसाद भट्ट `स्नेहिल’ पौड़ी(उत्तराखंड) ************************************************************** साहित्य वह अत्यंत महत्वपूर्ण व आवश्यक तत्व है,जो समाज की दशा व दिशा...