राष्ट्रीय

48 views

`निर्भया` से…`आसिफा` तक…

डॉ. स्वयंभू शलभ रक्सौल (बिहार) ****************************************************** बीते ६ वर्षों में देश में बहुत कुछ बदला,लेकिन लड़कियों के लिए...

60 views

दरकार! बैहर को जिला तो बना दो सरकार

हेमेन्द्र क्षीरसागर बालाघाट(मध्यप्रदेश) ******************************************  दूरियां कितनी दूरी बढ़ा देती है,ये बात तब समझ में आती है,जब संविधान की...

95 views

आरक्षण..नए सिरे से चिंतन की जरूरत

ललित प्रताप सिंह बसंतपुर (उत्तरप्रदेश) ************************************************ `आरक्षण` नाम तो सबने सुना ही होगा,एक छोटा-सा शब्द है,जो दलितों को...

130 views

रोजगार युवाओं का मूलभूत अधिकार

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** हम ३५ वर्ष से कम उम्र की हमारी जनसंख्या के ६५ प्रतिशत के साथ...

69 views

`बुद्धू बक्सा` बुद्धू बनाने के लिए या अभिनेताओं के रुदन के लिए ?

डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) ***************************************************** एक होशियार राजा जो बहुत चतुर,चालाक और बड़बोला था ,जिसने विश्वविजेता बनने की ख्वाहिश...

71 views

हिंदी के नाम पर पाखंड

डॉ. वेदप्रताप वैदिक ******************************************************** ताजा खबर यह है कि विश्व हिंदी सम्मेलन का ११ वां अधिवेशन अब मारिशस...

42 views

देखो! देश का अंधा कानून!

हेमेन्द्र क्षीरसागर बालाघाट(मध्यप्रदेश) ******************************************  २० बरस से कौशल भारत महाभियान में जी-जान से जुटी हुई कौशल विकास व...

73 views

अवरोधक जनप्रतिनिधियों का चुनाव बहिष्कार अनिवार्य

डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) ***************************************************** संविधान निर्माताओं को भविष्य का ज्ञान न होने के कारण वर्तमान में भारतीय मानस...

68 views

वर्तमान भारत में वर्ग संघर्ष का दौर

डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) ***************************************************** कमल कीचड़ में पैदा होता है और कीचड़ से अलग रहता है,यदि कीचड़ का...

76 views

कब खुलेंगे! हिन्दी माध्यम विशेष विद्यालय

हेमेन्द्र क्षीरसागर बालाघाट(मध्यप्रदेश) ******************************************  कब खुलेंगे! हिन्दी माध्यम विशेष विद्यालय...यह जिज्ञासा समाप्त होने के बजाय दिनों-दिन बढ़ते ही...