रोला

0 view

कपटी मानव

दुर्गेश राव ‘विहंगम’  इंदौर(मध्यप्रदेश) ************************************************** देखो जन के रंग,रोज कपटी बन जीताl पढ़े न कोई ग्रंथ,धूल खाती है...

36 views

बसंत

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय ******************************************************************** फिर ऋतुराज बसंत चतुर्दिक छाया है रेl  धरती का हर अंग,रंग नव पाया...

52 views

पर्वत

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ******************************************************************‘  जिसे चाँद की आभा से,अभिषेक कराया जाता हो, और दिवाकर प्रथम किरण का,जिसको...