व्यंग्य

12 views

दार्शनिक की पाठशाला और मैं

जितेंद्र शिवहरे इन्दौर(मध्य प्रदेश) ********************************************************************* जीवन को भली-भांति जानने और समझने के लिए मुझे एक दार्शनिक की कक्षा...

17 views

व्यथा दर्शन:मोबाईल का गुम होना और नींद का खोना

संजय वर्मा ‘दृष्टि’  मनावर(मध्यप्रदेश) ********************************************************************************** मोबाईल का सभी के पास होना अनिवार्य हो गया। जीवन की आश्यकताओं में...

30 views

बदलते रंग-रामभरोसे के संग

कार्तिकेय त्रिपाठी ‘राम’ इन्दौर मध्यप्रदेश) ********************************************* आज वर्तमान परिवेश में व्यक्ति के जीवन में रंगों की अहमियत बढ़ती...

30 views

बुरा न मानो भाई होली है

वाणी बरठाकुर ‘विभा’ तेजपुर(असम) ************************************************************* बुरा न मानो भाई होली है, ये तो मस्तानों की टोली है। हम...

17 views

बड़े दम का ‘पट्ठा’

सुनील चौरे ‘उपमन्यु’  खंडवा(मध्यप्रदेश) ************************************************ 'पट्ठा' याने प्रत्येक काम में दक्ष, जी हाँ,जो हास-परिहास,चतुराई से अपना काम निकलवा...

30 views

एक पाती-जुल्म ढहाती सर्दी के नाम…..

डाॅ.देवेन्द्र जोशी  उज्जैन(मध्यप्रदेश) ******************************************************************** हे सर्दी! हो सके तो तुम अब चली जाओ। हालांकि,मुझे इस तरह साफ-साफ नहीं...

26 views

‘काणी के ब्याह में सौ-सौ जोखिम…’

डॉ.वेदप्रताप वैदिक गुड़गांव (दिल्ली)  ********************************************************************** कोलकाता में हुई विशाल जन-सभा और महागठबंधन में देश की चार-पांच छोटी-बड़ी पार्टियों...

33 views

पाप धोने और कमाने का साल…

सुनील जैन राही पालम गांव(नई दिल्ली) ******************************************************** हमारे पाप करने की गति बढ़ी,लेकिन पाप धोने के समय में कमी...

65 views

नरेंद्र मोदी तरंग

संजय गुप्ता  ‘देवेश’  उदयपुर(राजस्थान) ********************************************************************* मैं कोई लेखक नहीं हूँ। जिंदगीभर एक निजी संस्थान में सेठजी की नौकरी...

80 views

उधार के पहिये

विजयसिंह चौहान इन्दौर(मध्यप्रदेश) ****************************************************** शाम को सात-सवा सात बजने को थे। गली के नुक्कड़ से घिसयाते हुए सायकल...