संस्कार

34 views

मांस खाना और खिलाना दोनों ही महापाप

अमल श्रीवास्तव  बिलासपुर(छत्तीसगढ़) ********************************************************************* अग्नि पर जब फल-फूल,अनाज,दूध-दही,घी-तेल,जड़ी-बूटी,आदि डाला जाता है,तो वह यज्ञ बन जाता है,और यदि उसी...

44 views

दिल की मुंडेर पर सदभाव का दीप जलाएँ

डाॅ.देवेन्द्र जोशी  उज्जैन(मध्यप्रदेश) ******************************************************************** दीपावली पर्व विशेष, दीप पर्व आपको आलोकित करे….. दीपावली अंधकार पर प्रकाश की जीत...

27 views

नारी का संपूर्ण स्वरूप ही नवदुर्गा

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** सच्चाई तो यही है कि नवदुर्गा नारी के नौ स्वरूप महिलाओं के पूरे जीवनचक्र...

51 views

श्राद्ध और ब्राह्मण भोज

संध्या चतुर्वेदी ‘काव्य संध्या’ अहमदाबाद(गुजरात)  ******************************************************************  आजकल एक नया फैशन और नई सोच समाज में तेजी से बढ़...

70 views

संयुक्त परिवार ही है भारतीय संस्कृति

संजय जैन  मुम्बई(महाराष्ट्र) ************************************************ आज हम सब जहाँ पर खड़े होकर अपने लोगों और परिवार वालों को देख...

42 views

जीवन का सर्वांगीण विकास श्रीकृष्ण के उपदेशों में

सत्यम सिंह बघेल लखनऊ (उत्तरप्रदेश) *********************************************************** जीवन का सर्वांगीण विकास हम भगवान श्री कृष्ण में पाते हैं। कर्म...

48 views

बाल साहित्य के प्रचलित मुहावरे बदलना होंगे

डॉ. विकास दवे इंदौर(मध्य प्रदेश ) *********************************************************************** बाल साहित्य जगत में विगत १३-१४ वर्षों से आना-जाना होता है।...

81 views

रक्षा बन्धन पर भाई-बहिन एक वचन दें

संजय जैन  मुम्बई(महाराष्ट्र) ************************************************ आजकल हमारे समाज में पश्चिमी सभ्यता का बहुत बड़ा बोला बाला है,जिसके कारण हमारी...

51 views

कर्नाटक में भी प्रिय है सावन माह 

शैलश्री आलूर ‘श्लेषा’  बेंगलूरु (कर्नाटक राज्य) **************************************************            सावन का महीना हिंदुओं के लिए...

56 views

बड़ों के प्रति श्रध्दा और संस्कार

संजय जैन  मुम्बई(महाराष्ट्र) ************************************************ वैसे तो कलियुग में संस्कार और श्रध्दा की बात करना बहुत ही अजीब-सा लगता...