समाज

1 view

अंदर के रावण का वध कर राम बनें

अमित मिश्रा  कटिहार (बिहार) *************************************** भारत एक ऐसा देश है जो अपनी संस्कृति,परम्परा, निष्पक्षता,और त्यौहारों के लिए बहुत...

4 views

जितने रावण,उतने राम भी हों

डॉ.पूर्णिमा मंडलोई इंदौर(मध्यप्रदेश) ***************************************************** आज से लगभग ३०-४० वर्ष पहले पूरे शहर में मात्र २ या ३ जगह...

7 views

दशहरा की प्रासंगिकता

इलाश्री जायसवाल नोएडा(उत्तरप्रदेश) ******************************************************* विजयादशमी विशेष........................... दशहरा अथवा विजयदशमी आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को...

12 views

रावण का नाश करने के लिए सोच ही काफी

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** रावण जो प्रतीक है बुराई का,अहंकार का,अधर्म का,आज तक जीवित इसलिए है कि हम...

5 views

बाद में दोषारोपण समझ से परे

 डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) ***************************************************** `मी टू` अभियान ............................                 एक बार ईसा मसीह सुबह-सुबह एक गांव से दूसरे...

37 views

बरसों बाद `मी टू` का औचित्य

सुश्री नमिता दुबे इंदौर(मध्यप्रदेश) ******************************************************** विश्वव्यापी अभियान `मी टू` से भारत भी अछूता नहीं रहा है,पर यह अभियान...

7 views

परिवार प्रणाली पर आंच आने व विसंगतियों की आशंका

राकेश सैन जालंधर(पंजाब) ***************************************************************** सर्वोच्च न्यायालय ने व्यभिचार को अपराध मानने वाली दंडावली की धारा-४९७ को लैंगिक भेदभाव...

23 views

रात्रि वैवाहिक भोज बंद करने का संकल्प प्रशंसनीय,अन्य सुधार अपेक्षित

डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) ***************************************************** जबसे नव धनाडय लोगों का समाज में वर्चस्व हुआ है या बना है,तब से...

46 views

गाय को चारा डालकर दुर्गति में भागीदार तो नहीं…!

दुर्गेश कुमार मेघवाल ‘डी.कुमार’ बूंदी (राजस्थान) ****************************************************************** भारत सभ्यता के प्रारम्भिक काल से ही कृषि प्रधान देश के...

21 views

सीता और शूर्पनखा-दो विचारधाराएं

राकेश सैन जालंधर(पंजाब) ***************************************************************** लंका दहन के बाद हनुमान जी माता सीता को अपनी पीठ पर बैठाकर भगवान...