समाज

19 views

न छेड़ो बेटी की गृहस्थी

वीना सक्सेना इंदौर(मध्यप्रदेश) ************************************************ परिवर्तन हर वस्तु का मूल अधिकार है,हर वस्तु परिवर्तित होती हैl नन्हीं-सी कली खिल...

6 views

हिंसा से जख्मी होती राष्ट्रीय अस्मिता

ललित गर्ग दिल्ली ************************************************************** दिल्ली के द्वारका में नरभक्षी होने की अफवाह के चलते लोगों ने अफ्रीकी नागरिकों...

24 views

अपेक्षाओं को सीमित रखें,आकांक्षाओं को नहीं

विशाल सक्सेना इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************************** हमेशा मानसिक शान्ति प्रकृति प्रदत्त बुद्धिमत्ता का सुन्दर गहना है। दूसरों की भलाई में...

36 views

नाम बड़े-दर्शन खोटे

इदरीस खत्री इंदौर(मध्यप्रदेश) ******************************************************* हाल ही में फ़िल्म प्रदर्शित हुई ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान,जिसके प्रदर्शन के पूर्व बड़ी-बड़ी घोषणाएं,लोक-लुभावन...

10 views

बचाव में प्राथमिकता तय करें

 डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) ***************************************************** सदस्य परिवार का एक अंग या इकाई होता है। इसी इकाई के समूह को...

9 views

पापा क्यों कहते हैं ?

संजीव शुक्ल ‘सचिन’  पश्चिमी चम्पारण(बिहार) ****************************************************************** पापा क्यों कहते हैं ?,आज के बच्चों की यह सबसे बड़ी व्यथा...

13 views

क्यों बदहाल एवं उपेक्षित है बचपन ?

ललित गर्ग दिल्ली ************************************************************** संपूर्ण विश्व में ‘सार्वभौमिक बाल दिवस’ २० नवम्बर को मनाया गया। इस दिवस की...

19 views

उल्लास के बाद का खालीपन…एक पिता की जुबानी

डॉ. स्वयंभू शलभ रक्सौल (बिहार) ****************************************************** दशहरे और दीपावली की छुट्टियां खत्म हुई हैं और अब बच्चे अपने...

70 views

आस्तीन के साँप

विशाल सक्सेना इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************************** समय,सत्ता,संपत्ति और शरीर सदा किसी का साथ नहीं देते,वैसे ही गलत तरीके से अर्जित...

21 views

जानिए स्वच्छता के पीछे की कुरूपता

 डॉ.अरविन्द जैन भोपाल(मध्यप्रदेश) ***************************************************** आज से चालीस-पचास साल पहले हमारे घरों में शादी-विवाह,या कोई अन्य आयोजन होते थे...