काव्यभाषा

3 views

गद्दारों के धड़ काटे जाएंगे

अमितू भारद्वाज शिकोहपुर (उत्तरप्रदेश) ************************************************************************************ खुली छूट दो सीमा के,इन सच्चे पहरेदारों को, यूपी हरियाणा जाटों को,पंजाबी शेर...

4 views

रे पाकिस्तान बेहया…

रूपेश कुमार सिवान(बिहार)  ******************************************************** रे पाकिस्तान बेहया... तुझे भारत माँ ललकार रही है, पुलवामा में हमला करके, बेशर्मी...

6 views

दुश्मन की छाती भेदे जो…

शिवम् सिंह सिसौदियाअश्रु ग्वालियर(मध्यप्रदेश) ******************************************************** भारत माता चीख रही है,कैसे मैं श्रंगार लिखूँ ? दुश्मन की छाती भेदे...

3 views

प्रेम का प्रतिदान दो तुम

सारिका त्रिपाठी लखनऊ(उत्तरप्रदेश) ******************************************************* अमरबेल की तरह तुम्हारा प्रेम है सुनो, लिपट गया था मुझसे हरे-भरे झूमते वृक्ष...

5 views

चढ़े क्रोध की ज्वाल

नवीन कुमार भट्ट नीर मझगवाँ(मध्यप्रदेश)  ************************************************************* मोदी जी अब दीजिये हथियार हमको। उनसे लड़ने का स्वतंत्र अधिकार हमको। वो...

0 view

जो लौट के घर ना आए…श्रद्धांजलि

सुषमा दुबे इंदौर(मध्यप्रदेश) ****************************************************** किसी ने भाई किसी ने बेटा किसी ने दामाद खोया है, दारुण दु:ख सुनकर...

3 views

फूंक दो अब ये पाकिस्तान

 मनोज यादव ‘मनु’ कानपुर(उत्तरप्रदेश) ********************************************************************** शर्मसार हो गया हिमालय, लज्जित यूं कश्मीर हुआ। बहता लहू सपूतों का, ज्यों...

3 views

व्यर्थ अमन की आशा

  डॉ.गोपाल कृष्‍ण भट्ट ‘आकुल’  महापुरा(राजस्‍थान) *************************************************************************************** स्‍वर्ग कहा जाता है जिसको,नर्क बना कश्‍मीर है, दुश्‍मन यही समझ...

3 views

एक कृष्ण चाहिये

सुलोचना परमार ‘उत्तरांचली देहरादून( उत्तराखंड) ******************************************************* जो सिर हथेली पर लिये हों, मेरे साथ आइये। इस भरत भूमि...

4 views

शहीदों को श्रद्धांजलि

शैलश्री आलूर ‘श्लेषा’  बेंगलूरु (कर्नाटक राज्य) ************************************************** आज आसमाँ रो रहा है, धरा भी कम्पित-सी कलम थम-सी गई,...