Uncategorized

7 views

परिवार

संजय जैन  मुम्बई(महाराष्ट्र) ************************************************ बिना हिल-मिलकर रहे,कोई परिवार नहीं बनता, बिना चर्चा के कोई,कभी समाधान नहीं मिलता। जिन...

3 views

काबुलःभारत चुप क्यों है ?

डॉ.वेदप्रताप वैदिक गुड़गांव (दिल्ली) ********************************************************************** अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने के प्रयास आजकल जितने जोरों से हो रहे...

6 views

गठबन्धन

रामचन्द्र ममगाँई पंकज घनसाली (उत्तराखंड) ************************************************ नीव के पत्थरों को हिला देने की ये तैयारी है, समझौते कुछ...

5 views

वैश्विक पटल पर हिंदी…आधी हकीकत,आधा फ़साना!

डॉ. एम.एल. गुप्ता ‘आदित्य’ मुम्बई *************************************************************** ढोल-नगाड़ों की आवाज बता रही है कि विश्व हिंदी दिवस फिर आ...

4 views

मकर संक्रांति का पर्याय है खिचड़ी मेला

आरती सिंह ‘प्रियदर्शिनी’ गोरखपुर(उत्तरप्रदेश) ************************************************************************************************************* हिंदू धर्म में मकर संक्रांति का विशेष महत्व है। इस दिन सूर्य उत्तरायण...

5 views

आँधी और दीपक

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय ******************************************************************** हे अमानुषों! बनकर आँधी बार-बार झपटे हो..., मैं दीपक हूँ नहीं बुझा था,...

8 views

ओढ़ रजाई

मधुसूदन गौतम ‘कलम घिसाई’ कोटा(राजस्थान) *****************************************************************************  सुंदरी सवैया.......... यह शीतल भोर लगे रिपु ज्यो,घर बाहर कौन कहो चल...

6 views

रण के प्रण से बंधे हुए…

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** जिनकी खातिर व्यक्ति नहीं ये देश समूचा अपना है, जिनकी आँखों मे पुण्य...

12 views

मकर संक्रांति अहसास

डाॅ.देवेन्द्र जोशी  उज्जैन(मध्यप्रदेश) ******************************************************************** न दान से न पुण्य से, न ज्ञान से न गुण से संवरती  है...जिन्दगी-...

14 views

मौजूदा साहित्यिक परिदृश्य में लोकोदय प्रकाशन का ऐतिहासिक हस्तक्षेप

दिल्ली। अगर समाज में सब-कुछ ठीक हो,सब-कुछ अनुकूल हो तो लेखक कुछ नहीं लिख पाएगा,क्योंकि साहित्य की प्रासंगिकता...