Uncategorized

200 views

प्रजातंत्र

तू यूँ ही बेगार-बेकार आदमी, तेरी नहीं कोई औकात आदमी तू केवल एक उपयोगी पुतला है, जो याद...

182 views

प्रकाश

`विवेक विकास` अन्तरंग मित्र थे। मिलकर जो भी योजना बनाकर क्रियान्वित करते,उसमें सफलता के स्वर्णिम पायदान पर चढ़कर...

74 views

तुम क्यूं हो गए विदा

  काश! तेरे नयनों से,मेरे नयनों की बात कर पाती झुकी हुई बोझिल पलकों पे कुछ ख्वाब सुला...

54 views

क्योंकि मैं एक अबला हूँ…

क्योंकि मैं एक अबला हूँ... वो अबला जिस आँगन में जन्म लूं, महका दूँ तुलसी-सा कभी बहन-बेटी,कभी माँ...

44 views

प्रकृति

 कारी कजरी, बदरिया बरसे प्यासी धरा पे। रैन बेचारी, भटकती फिरती तारक संग। ख्वाब सुहाने, जागते तारों संग...

79 views

चलो सब,श्री वृंदावन धाम

चलो सब, श्री वृंदावन धाम। युगल चरण संग होली खेलें। बृजरज माथ रंगोली ले...लें। निधिवन घेर बिहारी को...

311 views

हां,मैं एक लड़की हूं

कमल की तऱह कोमल भी हूं, हां,मैं एक लड़की हूं। हां नहीं सही जाती सूरज की धूप भी...

115 views

जिंदगी इस कदर आजमाती रही

जिंदगी इस कदर,आजमाती रही। दे के गम हमको खुशियां,मनाती रही। दीद उनका हुआ,इस कदर कुछ हमें, साँस आती...

99 views

मेरी अपनी अभिलाषा

जिंदगी की तो सारी अभिलाषा,मैं पूरी कर जाऊंगी। डरती हूं बस मौत के बाद,मैं ये कैसे पूरी कर...

69 views

सपना,माँ नहीं है..

तेरी आँखों से बहता पानी मुझे सब-कुछ बताता है, जब तू रोता है मेरा दिल भर आता है,...