Uncategorized

87 views

कैसे मैं मधुमास लिखूँ…!

पीर लिए अंतस-पुष्पों पर,कैसे सुरभि सुवास लिखूँ। सिसक रहे मन के उपवन में,कैसे मैं मधुमास लिखूँ॥ दर्द पिघलकर...

105 views

कोई बात तो होगी

  लिखी है चिट्ठी मैंने तो याद तो होगी, जरा देर से ही सही मुलाकात तो होगी। भले...

70 views

तुम्हारे बिना जो मिले क्या खुशी है…

तुम्हारे बिना जो,मिले क्या खुशी है, इन आँखों में बस,तू ही तू ही बसी है। नहीं चाहिए कुछ,बिना...

171 views

मुक्तक

अक्सर ठगने को मीठी-मीठी बातों का सहारा लेते हैं लोग, जिस्म की चाहत में झूठे जज्बातों का सहारा...

152 views

नारी है इक समर्पण

नारी में है इक विशाल दर्पण। उसने किया सब-कुछ अर्पण॥ नारी में समाए अनेक रिश्ते। कभी मामूली हस्ती...

79 views

बासन्ती-सुषमा

आया बसन्त खिला है प्रसून का,     बाग अनोखा नया रस माता। मालती झूम रही मधु गन्ध...

83 views

जियो और जीने दो

खुद जियो औरों को भी जीने दो। ये नारा हम भी दें और तुम भी दो॥    ...

164 views

गुरू माँ की वंदना 

गुरु माँ के चरणों में वंदन हमारा, गुरु माँ के चरणों में वंदन हमारा। विशुद्धमती तुम हो विज्ञमती...

85 views

जयपुर की लेखिका डॉ. माथुर को मिला ‘नेशनल डायमण्ड अचीवर्स अवार्ड-२०१८’ 

बीकानेर। बीकानेर के अमर रंगमंच में  यूथ वर्ल्ड ग्रुप द्वारा राष्ट्रीय स्तर के 'नेशनल डायमण्ड अचीवर्स अवार्ड-२०१८' समारोह को आयोजित किया गया। इसमें साहित्य,समाजसेवा और कॉरपोरेट सेक्टर में महिला उद्यमी के लिए डॉ.निशा माथुर(जयपुर)को 'नेशनल डायमण्ड अचीवर्स अवार्ड-२०१८' से सम्मानित किया गया। सम्मान दिल्ली सिविल डिफेन्स के सीनियर चीफ राष्ट्रपति अवॉर्डी राजेन्द्र कपूर के कर-कमलों से दिया...

123 views

श्याम तेरा नाम

हवा के हर झोंके में है श्याम तेरा नाम, मेरे जीने का है सार श्याम तेरा नाम। जो...