Uncategorized

29 views

प्रणम्य

डाॅ.अचलेश्वर कुमार शुक्ल ‘प्रसून’  शाहजहाँपुर(उत्तरप्रदेश) ****************************************************** रिक्त मनः कोषों में घुमड़ी यादों की पुरवाई। पावस के संग अनचाहे...

46 views

इश्क़

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** कहते हैं एक आग का दरिया है, उसमें डूब कर जाना ही...

25 views

शज़र की छाँव

प्रदीपमणि तिवारी ध्रुव भोपाली भोपाल(मध्यप्रदेश) ********************************************************************************************* (रचना शिल्प:बह्र या अर्कान-१२२२×४) शज़र माहौल खुशनुमा और मौसम ये बनाता है। रिवायत...

24 views

चाँदनी रात

निर्मल कुमार जैन ‘नीर’  उदयपुर (राजस्थान) ************************************************************ चाँदनी रात, झिलमिलाते हुए नभ में तारे। सर्दी के दिन, सारा...

24 views

माता मेरी ये धरा…

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** धरती अपनी धारिणी,माता रूप समान। करो वन्दना प्रेम से,इनसे हैं इंसान॥...

30 views

धूर्त संत और निर्भीक पत्रकार

डॉ.वेदप्रताप वैदिक गुड़गांव (दिल्ली)  ********************************************************************** हरियाणा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के हत्यारे तथाकथित संत या संतों के कलंक...

20 views

हार का आनन्द

पवन प्रजापति ‘पथिक’ पाली(राजस्थान) ************************************************************************************** अक्सर कई बार, मेरे पुरजोर प्रयास व्यर्थ हो ही जाते हैं। मेरी सारी...

28 views

दोस्ती

पूजा हेमकुमार अलापुरिया ‘हेमाक्ष’ मुंबई(महाराष्ट्र) **************************************************************************** खामोशियों की चादर में लिपटी दोस्ती वो सच्चाई है, जहाँ न गिला-शिकवा...

29 views

पाप धोने और कमाने का साल…

सुनील जैन राही पालम गांव(नई दिल्ली) ******************************************************** हमारे पाप करने की गति बढ़ी,लेकिन पाप धोने के समय में कमी...

37 views

क्यूँ भयभीत नारी

डॉ.नीलम वार्ष्णेय ‘नीलमणि’ हाथरस(उत्तरप्रदेश)  ***************************************************** सिहर उठी मन था भयभीत भोली काहे ऐसा जीवन, आत्मा कैदी क्यूँ पिंजरे...