Tag: cs

29 views

अमावस की रात

चतुरसिंह सी.एस .’कृष्णा’ भरतपुर (राजस्थान) ******************************************************** अमावस की अँधेरी रात,जो गुजारी थी प्रियवर तेरे साथ, अँधेरे में भी उजाला...

64 views

वीर जवान

चतुरसिंह सी.एस .’कृष्णा’ भरतपुर (राजस्थान) ******************************************************** यूँ ग्रीष्म काल में ढेर हुए हैं, नन्हें पक्षी,बूढ़े और जवानl लेकिन भीषण...

36 views

दो वंशों की मर्यादा है नारी

चतुरसिंह सी.एस .’कृष्णा’ भरतपुर (राजस्थान) ******************************************************** नारी वो है जो बे-जुबान छत दीवारों को,पलभर में घर कर देती है,...

89 views

बे-इन्तहां मैं प्यार दूं

चतुरसिंह सी.एस .'कृष्णा' भरतपुर (राजस्थान) ******************************************************** आजा मेरी बांहों में तुझे बे-इन्तहां मैं प्यार दूं, तेरी उलझी हुई जुल्फों...