Tag: goutam

8 views

ओढ़ रजाई

मधुसूदन गौतम ‘कलम घिसाई’ कोटा(राजस्थान) *****************************************************************************  सुंदरी सवैया.......... यह शीतल भोर लगे रिपु ज्यो,घर बाहर कौन कहो चल...

26 views

‘हैप्पी न्यू इयर भाई साहब…’

मधुसूदन गौतम 'कलम घिसाई' कोटा(राजस्थान)  ***************************************************************************** सुबह सुबह नव वर्ष मन गया वर्मा जी का,जब उन्होंने गुप्ता जी...

18 views

हर इक अंग बदलते देखा

पवन गौतम ‘बमूलिया’ बाराँ (राजस्थान) ************************************************************************** जिनको जीवन जीना आया उनको ढंग बदलते देखा। गिरगिट भी शरमा जाता...

36 views

आत्मा

पवन गौतम ‘बमूलिया’ बाराँ (राजस्थान) ************************************************************************** (धुन-तुम्हारी नजरों में हमने देखा...) अन्तस में जाकर जब हमने देखा, आभा...

36 views

मेरा मन

पवन गौतम ‘बमूलिया’ बाराँ (राजस्थान) ************************************************************************** (रचना शिल्प:प्रत्येक दोहे के प्रत्येक चरण का प्रथम शब्द 'मन' से प्रारम्भ)...

38 views

`माँ` से जग आबाद

पवन गौतम ‘बमूलिया’ बाराँ (राजस्थान) ************************************************************************** मैं भी माँ से तू भी माँ से, माँ से जग आबाद।...

92 views

हिन्दी भाषा और चुनौतियाँ

पवन गौतम ‘बमूलिया’ बाराँ (राजस्थान) ************************************************************************** हिंदी दिवस स्पर्धा विशेष ........................ हिन्दी की वैश्वत मार्तण्ड धारा को हमारे...

247 views

शहीद

पवन गौतम ‘बमूलिया’ बाराँ (राजस्थान) ************************************************************************** (झालावाड़ के शहीद मुकुट बिहारी मीना को श्रदांजलि) हाड़ाओं की जननी का...

83 views

नीरज` चले गए…

पवन गौतम ‘बमूलिया’ बाराँ (राजस्थान) ************************************************************************** पद्मश्री-पद्मभूषण से सम्मानित महाश्रेष्ठ काव्यशिल्पी गोपाल दास ‘नीरज’ को सादर नमन, वंदन...

263 views

विष कुम्भों ने छला सत्य को

पवन कुमार गौतम 'बृजराही बमूलिया' बाराँ (राजस्थान) ************************************************************************** देकर कुंडल कवच कर्ण ने खुद ही मृत्यु बोई है।...