Tag: nikunj

6 views

सागर

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** मैं सागर हूँ महार्णव अति गह्वरित, धरा के आँचल में समेटे...

17 views

होली समरस का त्यौहार

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** आया है खुशनुमा त्यौहार, द्वेष घृणा स्वार्थ विकार समन्वित धर्म जाति...

30 views

बदलेगी दशा व दिशा

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** स्वयं घर परिवार नहीं,निरामीष परिवेश। वतनपरस्ती में लगा,है प्रधान इस देश॥...

37 views

मनोरम प्रीत

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** माधवी लताओं के आगोश में, सजी है खुशनुमा महफ़िल प्रीति मिलन...

19 views

नारी तुम वरदान हो

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** नारी तुम श्रद्धा हो, सुकोमल नवकिसलय कुसुमित मनोरम मधुरिम, ममता वात्सल्य...

22 views

व्यर्थ न होगी कुर्बानी

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** फिर एक उरी,उससे भी बड़ी बेहद दर्दनाक ख़ौफनाक, राष्ट्रीय अस्मिता की...

17 views

हाथ खोल दो फौजी के…अर्जी छोटी-सी

निकुंज बिहारी उपाध्याय गिरिडीह(झारखंड) ************************************************************************* भारत विरोधी नारों को आग लगा दो मोदी जी, हर डाल पर हो...

44 views

श्रद्धाञ्जलि शहीदों को

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** अमर रहे बलिदान तेरा,कृतज्ञ वनत हैं शीश। भारतीय हम रो रहे,दी...

17 views

उड़ता पतझड़

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** बेपरवाह बेजान बेदर्द, अपने अतीत की गुरुता दिलों में छिपाये, चेहरा...

60 views

स्वागत करूँ ऋतुराज का

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** माघी मधुमासागमन,कर्णमधुर पिकगान।    तरु रसाल मंजर खिले,खुशियों का आधानll   ...