Tag: prasad

1 view

अपना घर

शम्भूप्रसाद भट्ट `स्नेहिल’ पौड़ी(उत्तराखंड) ************************************************************** ये मेरा घर ये तेरा घर, घरौंदा है यहाँ सब का। घरों में...

16 views

यह भूमि है पुण्या…

शम्भूप्रसाद भट्ट `स्नेहिल’ पौड़ी(उत्तराखंड) ************************************************************** उत्तराखंड की भूमि है पुण्या, जय हो उत्तराखंड भूमि है धन्या। उत्तराखंड में...

10 views

चुनाव का दौर

प्रखर दीक्षित फर्रूखाबाद (उत्तर प्रदेश) ********************************************************* गली-गली राजपथ,गाँव हाट नगर-नगर। खाक छानते फिरें,सफेदपोश डगर-डगर॥ झोलियों में वादे लिए,बाँट...

21 views

माँ गीता जैसी पावन…

सत्येन्द्र प्रसाद साह’सत्येन्द्र बिहारी’ चंदौली(उत्तर प्रदेश) ***************************************************************************** सुना है रहबरों के किस्से बड़े सुहाने होते हैं। माँ तो...

16 views

रंग

गंगाप्रसाद पांडे ‘भावुक’ भंगवा(उत्तरप्रदेश) **************************************************************** सूर्य देता है प्रकाश, चलता है जीवन दिखती है दुनिया, इसी रौशनी में...

15 views

चुनाव प्रचार

गंगाप्रसाद पांडे ‘भावुक’ भंगवा(उत्तरप्रदेश) **************************************************************** लो चुनाव प्रचार चरम पर, हर प्रत्याशी भ्रमण पर प्रचारकों की बल्ले-बल्ले, पेट...

24 views

दहेज का अभिशाप

शम्भूप्रसाद भट्ट `स्नेहिल’ पौड़ी(उत्तराखंड) ************************************************************** दहेज, जो पहले माना जाता था एक उपहार, लेकिन... उसी के कारण आज...

46 views

जीवन

सत्येन्द्र प्रसाद साह'सत्येन्द्र बिहारी' चंदौली(उत्तर प्रदेश) ***************************************************************************** यायावार खानाबदोश है बंजारा है जीवन, पग क्षण यहां है पग...

21 views

दीपमालिका

गंगाप्रसाद पांडे ‘भावुक’ भंगवा(उत्तरप्रदेश) **************************************************************** अरबों-खरबों के पटाखे हो रहे स्वाहा, ये कर्ण भेदी गर्जनाएं नवजातों को कहां...

19 views

मानव कहलाने का हक खो चुके…

गंगाप्रसाद पांडे ‘भावुक’ भंगवा(उत्तरप्रदेश) **************************************************************** विजयादशमी विशेष........................... सारे मिलकर एक हो जाओ, भीतर के रावण को बढ़ाओl आओ...