Tag: ram

12 views

उड़ता पतझड़

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** बेपरवाह बेजान बेदर्द, अपने अतीत की गुरुता दिलों में छिपाये, चेहरा...

11 views

अपनापन

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** अपनापन जब भी लगे,करता हूँ मैं बात। फिर कोई हो आदमी,कुछ...

43 views

स्वागत करूँ ऋतुराज का

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** माघी मधुमासागमन,कर्णमधुर पिकगान।    तरु रसाल मंजर खिले,खुशियों का आधानll   ...

19 views

मेरा गाँव

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** सुन्दर खेती खार है,कर्मठ आज किसान। अपनी हिम्मत से सदा,उपजाते हैं...

22 views

स्वाधीन भारत का गमगीन गणतंत्र

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** कवि मानस पटल करता है बार-बार उमड़ घुमड़ कर एक प्रश्न,...

8 views

जांबाज सिपाहियों तुमको नमन

पुनीत राम सूर्यवंशी ‘सोनाखान’ लुकाउपाली छतवन(छत्तीसगढ़) ************************************************************************************** वतन की हिफाजत के लिए त्याग दिए प्राण, तुमने आह!तक नहीं...

11 views

सरहद के रखवारे

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** सरहद के रखवार है मातृभूमि की शान। देशभक्ति की राह पर,चलते...

11 views

मेरे वतन के जांबाज सिपाहियों

पुनीत राम सूर्यवंशी ‘सोनाखान’ लुकाउपाली छतवन(छत्तीसगढ़) ************************************************************************************** ए मेरे वतन के जांबाज सिपाहियों, कण-कण में है भारत माँ...

17 views

गणतंत्र दिवस

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** गणतंत्र दिवस विशेष..................................... जन गण मन की जीत हो,जय हो भारत...

17 views

माता मेरी ये धरा…

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** धरती अपनी धारिणी,माता रूप समान। करो वन्दना प्रेम से,इनसे हैं इंसान॥...