Tag: swapnil

21 views

प्रजातंत्र में मतदान अनिवार्य

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** प्रजातंत्र में मतदान और चुनाव जरूरी है,क्योंकि लोकतंत्र भी अनिवार्य शर्त और सफलता की...

28 views

आरक्षण और सत्ता का संरक्षण

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** कमजोर को सहारा और पिछड़ों को आगे लाना यह बेशक काम होता है व्यवस्था...

36 views

साल फिर बदल रहा..

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** नव वर्ष विशेष................................. समय पंख लगा कर उड़ रहा है, साल फिर बदल रहा...

32 views

अलविदा तो कहा था तुम्हें…

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** तुम याद मुझे बहुत आते हो, हर पल हर क्षण आते हो। पानी मेरी...

40 views

दीये की रौशनी तले कितना अंधेरा

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** दीपावली पर्व विशेष, दीप पर्व आपको आलोकित करे….. आज दीये सिसक रहें हैं और...

51 views

रावण का नाश करने के लिए सोच ही काफी

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** रावण जो प्रतीक है बुराई का,अहंकार का,अधर्म का,आज तक जीवित इसलिए है कि हम...

48 views

नारी का संपूर्ण स्वरूप ही नवदुर्गा

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** सच्चाई तो यही है कि नवदुर्गा नारी के नौ स्वरूप महिलाओं के पूरे जीवनचक्र...

56 views

माँ भारती को पुष्पांजली

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** केसरिया गेंदा,धवल चाँदनी,हरे बागान, यही है आजादी के आने का पैगाम।   बूंदों की...

75 views

राजनीति समाज को आश्रित बना रही

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** भारत में राजनीतिक दल चुनाव के मौके पर ज्यादा से ज्यादा लोक-लुभावन वादे कर...

54 views

दुःख निर्मूल,सुख आरूढ़ कर….

प्रो.स्वप्निल व्यास इंदौर(मध्यप्रदेश) **************************************************** गुरु पूर्णिमा विशेष .............................................. मृगतृष्णा की प्यास बुझ गई, मेरी सारी आस मिट गईl  ...