ध्यान रहे निज कर्म पर

बोधन राम निषाद ‘राज’ कबीरधाम (छत्तीसगढ़)****************************************************** जय श्री कृष्ण (भाग-२)... ध्यान रहे निज कर्म पर, फल में ना आसक्ति।चिंता छोड़ो ईश पर, यही कृष्ण की भक्ति॥ कृष्ण सदा कहते यही, रहो…

0 Comments

बरसे हरदम हरि कृपा

बोधन राम निषाद ‘राज’ कबीरधाम (छत्तीसगढ़)****************************************************** जय श्री कृष्ण (भाग-२)... बरसे हरदम हरि कृपा, मन में अति आनंद।खो जाऊँ हरि प्रेम में, छोड़ जगत के फंद॥ तन में हरि का वास…

0 Comments

नैतिकता के पथ चलो

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* नैतिकता के पथ चलो, तभी बनेगी बात।जीवन तब होगा मधुर, पाये तू सौगात॥ नैतिकता के संग हैं, दया,मनुजता,नेह।मन को पावनता मिले, पुलकित होती देह॥ नैतिकता को…

0 Comments

रिश्ते-नाते साधन लोभ

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’बेंगलुरु (कर्नाटक) ********************************************************************** कौन किसे पहचानता, है किससे अनजान।कारज जिससे जब सधे, अपनापन मेहमान॥ वक्त तकाजा समझ बस, बने वक्त अनजान।हाव भाव लखि अपर जन, चले वक्त…

0 Comments

बतलाऊँ कैसे मन की बात!

बोधन राम निषाद ‘राज’ कबीरधाम (छत्तीसगढ़)****************************************************** जय श्री कृष्ण (भाग-२)... दही लूट ली श्याम ने, संग सखा सब ग्वाल।मित्र सुदामा दीन भी, दिखे बहुत खुशहाल॥ कान्हा बतलाऊँ तुझे, कैसे मन की…

0 Comments

देता सब वही

अब्दुल हमीद इदरीसी ‘हमीद कानपुरी’कानपुर(उत्तर प्रदेश)********************************************* देता है सब कुछ वही, दौलत इज्ज़त नाम।हम कहते उसको ख़ुदा,तुम कहते हो राम॥ जीएसटी छापे पड़े, बन्द हुआ बाज़ार।कहते व्यापारी मिले, हो जाय…

0 Comments

अडिग रहो कर्म पर

जय श्री कृष्ण (भाग-२)... बोधन राम निषाद ‘राज’ कबीरधाम (छत्तीसगढ़)****************************************************** अडिग रहो निज कर्म पर, देंगे फल प्रभु चार।एक आस विश्वास ही, करे स्वप्न साकार॥ पावन ब्रज की वो धरा, जहाँ…

0 Comments

अनुराग

डॉ.एन.के. सेठीबांदीकुई (राजस्थान) ********************************************* प्रेम करें हर जीव से, करें द्वेष का त्याग।सबमें आत्मा एक है, करो न इसके भाग॥ वैर भाव को छोड़कर, करें सभी अनुराग।जीवन चलता प्रेम से,…

0 Comments

पायल आन

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* नारी के श्रंगार सँग, पायल सोहे ख़ूब।लज्जा है,सम्मान है, आकर्षण की दूब॥ रहता पायल में सदा, शील और निज आन।पायल में बसते सतत्, अनजाने अरमान॥ पायल…

0 Comments

सबको दो सम्मान

अब्दुल हमीद इदरीसी ‘हमीद कानपुरी’कानपुर(उत्तर प्रदेश)********************************************* नफ़रत को मिलता नहीं, एक भी खरीदार।फिर क्यूँ फलता-फूलता, नफ़रत कारोबार॥ इससे रहकर बेख़बर, कहता क्या संसार।क्षमताओं को हर घड़ी, देना है विस्तार॥ निजी…

0 Comments