Visitors Views 47

दु:ख में हिम्मत नहीं हारना

राधा गोयल
नई दिल्ली
******************************************

साहस-उत्साह-हिम्मत…

सदा रहेगा इस जीवन में सुख और दु:ख का आना-जाना,
दु:ख में हिम्मत नहीं हारना, सुख में ज्यादा मत इतराना
सुख भी नश्वर दु:ख भी नश्वर, यद्यपि दोनों संगी-साथी,
सदा नहीं ये रहने वाले, हिम्मत नहीं हारना साथी।

सूरज के आते ही धरती पर उजियारा छा जाता है,
शाम ढले सूरज ढलने पर, अँधियारा-सा छा जाता है
उसी समय तारों की चूनर आसमान पर छा जाती है,
उसकी ओट से चाँद झाँक कर अंधियारे को डस जाता है।

सूरज-चाँद का आना-जाना, इस जीवन का शाश्वत क्रम है,
सुबह का आना शाम का जाना, यह भी जीवन का एक क्रम है
माना रात अंधेरी है, पर सदा नहीं यह रह पाएगी,
हिम्मत नहीं हारना साथी, रात जाएगी सुबह आएगी॥