महावीर के दर्शन और सिद्धांतों में सब समाधान समाहित

ललित गर्ग दिल्ली************************************** जन्म जयन्ती (२१ अप्रैल) विशेष... सदियों पहले महावीर जन्मे, पर वे जन्म से महावीर नहीं थे। उन्होंने जीवनभर अनगिनत संघर्षों को झेला, कष्टों को सहा, दु:ख में…

0 Comments

४ दिन स्वर्ग की सैर

डॉ. प्रताप मोहन ‘भारतीय’सोलन(हिमाचल प्रदेश)***************************************************** आपको आश्चर्य होगा कि, क्या कोई जिंदा व्यक्ति भीस्वर्ग की सैर कर सकता है ?वैसे तो, कहा जाता है कि स्वर्ग पाने की पहली शर्त…

0 Comments

राघव जी हैं सरलता के कायल

गोवर्धन दास बिन्नाणी ‘राजा बाबू’बीकानेर(राजस्थान)********************************************* मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। इसलिए, सामान्य परिस्थिति में मनुष्य को अपना जीवन जीने के लिए अनेक तरह की परिस्थितियों से गुजरना होता है और वे…

0 Comments

प्रकृति के साथ संतुलन की सीख हैं श्रीराम

ललित गर्ग दिल्ली************************************** रामनवमी विशेष... हिंदू धर्म में आस्था रखने वालों के लिए रामनवमी बहुत ही शुभ दिन होता है। सनातन शास्त्रों में निहित है कि, त्रेता युग में चैत्र…

0 Comments

हर ‘मत’ अतिमहत्वपूर्ण

गोवर्धन दास बिन्नाणी ‘राजा बाबू’बीकानेर(राजस्थान)********************************************* सभी जानते ही नहीं, मानते भी हैं कि, किसी भी तरह की प्रतियोगिता हो या चुनाव, वहाँ मतदान के माध्यम से निर्णय की स्थिति में पहुँचना…

0 Comments

दादा-पोते का प्यार

डोली शाहहैलाकंदी (असम)************************************** मनाली जाकर हनीमून मनाने के बाद घर आकर रेनू बहुत खुश थी, पर अभी मेहंदी के रंग के कुछ महीने ही हुए थे कि, एक तरफ सासू…

0 Comments

लोकतंत्र की दृढ़ता के लिए मतदान अनिवार्य

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* 'सबको करना चाहिए, निश्चित ही मतदान।लोकतंत्र मजबूत हो,बढ़े लोक की शान॥'मतदान नागरिकों को नागरिकता के महत्व का एहसास करने में भी मदद करता है। बहुत से…

0 Comments

हमें बड़े पुनर्जागरण की जरूरत

डॉ. रजनीश शुक्लभोपाल (मप्र)******************************************** आइए, जानते हैं हमारे गुरुकुल कैसे बन्द हुए।इंग्लैंड में पहला विद्यालय १८११ में खुला, उस समय भारत में ७,३२,००० गुरुकुल थे।मैकाले का स्पष्ट कहना था कि,…

0 Comments

चुनाव:मूल्यों की स्थापना का दौर हो

ललित गर्ग दिल्ली************************************** लोकसभा चुनावों की सरगर्मियां उग्र से उग्रतर होती जा रही है। पहली बार भ्रष्टाचार चुनावी मुद्दा बन रहा है, कुछ भ्रष्टाचार मिटाने की बात कर रहे हैं…

0 Comments

खुशी में लगातार पिछड़ रहे हम !

ललित गर्ग दिल्ली************************************** १४३ देशों के विश्व खुशहाली क्रम में भारत १२६वें स्थान पर रहा है, जिसमें फिनलैंड ने लगातार छठीं बार सर्वोच्च स्थान पाया है। यह बात भी गौर…

0 Comments