कुल पृष्ठ दर्शन : 339

You are currently viewing दोस्ती

दोस्ती

बोधन राम निषाद ‘राज’ 
कबीरधाम (छत्तीसगढ़)
*******************************************

दोस्ती से बड़ा अब तराना नहीं।
हाल जैसा भी हो तुम भुलाना नहीं।

जिंदगी कब तलक बीत जाये यहाँ,
याद रखना चलेगा बहाना नहीं।

तुम सुदामा भले मित्र हो कृष्ण-सा,
दुश्मनों की तरह तुम निभाना नहीं।

ये जमाना कभी साथ देते कहाँ,
दोस्ती इसलिए भूल जाना नहीं।

यार यारी निभाना ‘विनायक’ यहाँ,
मायने दोस्ती का जताना नहीं॥

Leave a Reply