कुल पृष्ठ दर्शन : 338

You are currently viewing रिश्ते-यक्ष प्रश्न

रिश्ते-यक्ष प्रश्न

डॉ.अशोक
पटना(बिहार)
***********************************

आज़ बातें चल रही है,
रिश्ते-नाते पर तकरार हो रही है
रिश्ते कैसे हों ?
यह एक यक्ष प्रश्न बन गया है।

ज़िन्दगी ने एक सवाल,
का रूप धारण कर लिया है
इसलिए यहां हमें यह सोचना चाहिए,
मजबूती से पकड़ बनाने की
कोशिश होनी चाहिए।

रिश्ते-नाते हमें मजबूती से,
बनाने की जरूरत है
इसलिए यहां कसरतों में भी,
एक नियमित सलीका जरूरी है
मजबूती से पकड़ भी बना कर रखना,
अब जहां में बन चुकी मजबूरी है।

हिमालय से रिश्ते की बात हो,
सम्बन्धों में निकटता-सी सौगात हो
शान्ति और आनन्द लेने में,
आगे रहें हमेशा हम यहां
सारी जिम्मेदारियाँ भी,
दिल से जुटी रहें यहां।

सांस्कृतिक और आध्यात्मिक ज्ञान की,
लगातार चर्चा होती रहें यहां
जनमानस पर गम्भीरता से,
वार्ता पर वार्ता होती रहें यहां।

रिश्तों में गर्माहट और सुखद अहसास दिखें,
अपनत्व और लगाव रखने वाले लोग दिखें
देश की अस्मिता को सम्मान मिले,
सहिष्णुता और प्यार से
सम्मोहित लोगों में प्यार दिखे।

यही वजह है कि हम सब,
मिलकर रहते हैं यहां
वैभव और ऐश्वर्य यहां छलांग लगाता,
सदैव दिखता है खूब यहां
आपसी मतभेद नहीं रहता है,
लम्बे समय के लिए यहां
सबमें अनूठा और अद्भुत,
सांस्कृतिक समर्पण दिखता है यहां।

आओ हम सब मिलकर,
इस बार एक निर्णय लेने में
आगे बढ़ाते चलने का,
सम्बल प्रयास करें यहां।
ज़िन्दगी एक सवाल है,
उस पर भरोसा करते रहें यहां॥

परिचय–पटना(बिहार) में निवासरत डॉ.अशोक कुमार शर्मा कविता,लेख,लघुकथा व बाल कहानी लिखते हैं। आप डॉ.अशोक के नाम से रचना कर्म में सक्रिय हैं। शिक्षा एम.काम.,एम.ए.(राजनीति शास्त्र,अर्थशास्त्र, हिंदी,इतिहास,लोक प्रशासन एवं ग्रामीण विकास) सहित एलएलबी,एलएलएम,सीएआईआईबी, एमबीए व पीएच-डी.(रांची) है। अपर आयुक्त (प्रशासन)पद से सेवानिवृत्त डॉ. शर्मा द्वारा लिखित अनेक लघुकथा और कविता संग्रह प्रकाशित हुए हैं,जिसमें-क्षितिज,गुलदस्ता, रजनीगंधा (लघुकथा संग्रह) आदि है। अमलतास,शेफालीका,गुलमोहर, चंद्रमलिका,नीलकमल एवं अपराजिता (लघुकथा संग्रह) आदि प्रकाशन में है। ऐसे ही ५ बाल कहानी (पक्षियों की एकता की शक्ति,चिंटू लोमड़ी की चालाकी एवं रियान कौवा की झूठी चाल आदि) प्रकाशित हो चुकी है। आपने सम्मान के रूप में अंतराष्ट्रीय हिंदी साहित्य मंच द्वारा काव्य क्षेत्र में तीसरा,लेखन क्षेत्र में प्रथम,पांचवां,आठवां स्थान प्राप्त किया है। प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर के अखबारों में आपकी रचनाएं प्रकाशित हुई हैं।

Leave a Reply