Visitors Views 99

जाना-पहचाना अनजाना घर

डॉ.हेमलता तिवारी
भोपाल(मध्य प्रदेश)
***********************************

जानना-पहचानना,
दोनों में कितना फर्क है।

मुझे तब तक नहीं पता था,
जब तक तुमने बरतन,स्विच बोर्ड
लेपटॉप,डेस्कटॉप,मोबाइल,
और घरेलू मशीनों को नहीं तोड़ा।

घर के सामान के साथ,
कभी मेरा हाथ टूटा
तो कभी बच्चों का सर,
हर बार कुछ टूटने के साथ
मेरे भीतर भी कुछ ना कुछ टूट जाता।

दरकते रिश्तों के साथ,
कब बच्चों ने भी सब कुछ तोड़ना
शुरु किया पता ही नहीं चला।

बच्चों से कोई बात मनवाना,
कोई काम कराना
हिमालय पर चढ़ने से भी दुरूह,
बहुत मन करता है
बच्चों से बात करूं,
प्यार करुँ
अपनी तक़लीफों को बाँटूं।

पर पास जाते ही झिड़कना,
और झटक देना
मन को चूर-चूर कर देता।

मैं देखती हूँ माँ से लाड़ दुलार,
करते बच्चे
मनुहार और प्यार करते बच्चे।

यहां तो परेशान करने के,
नए-नए ढेरों तरीकों के
बीच प्यार की उष्मा का,
नामों-निशां तक नहीं।

तुम्हारे असुरक्षा के एहसास ने,
बच्चों को मुझसे कितना दूर कर दिया।

मन भागना चाहता है,
तुम सबसे दूर
फ़िर खड़ा हो जाता है सामने,
वही यक्ष प्रश्न…
बच्चों का भविष्य ???

तुम्हारी हीन भावनाओं,
का खामियाजा भुगत रहे बच्चे
जिस दिन समझेंगे,
उस दिन बस-एक उस दिन
तुम्हारा दर्प चूर-चूर होगा।

और मैं शिद्दत से तुम्हारे रोज,
बदलते चेहरों के बीच
एक वो चेहरा भी देखना चाहूंगी,
जो अभी मेरे लिए भी अनजाना है।

तब तुम अपने अकेलेपन से सवाल
पूछोगे ???
क्या हासिल करने को,
तुमने हम सबको एक
परिवार की तरह नहीं रहने दिया,
हम सबको सामान की तरह
घर के कोनों में फेंक दिया।

क्यूं जब जब मेरे और बच्चों के,
बीच कभी भूले-भटके भी बात हुई
तो तुम्हारी असुरक्षा ने तांडव खड़ा
कर दिया।

ये सारे सवाल तब तुम,
अपने अकेलेपन से पूछना
जरुर पूछना॥

परिचय-डॉ.हेमलता तिवारी का जन्म १४ नवम्बर १९६५ को सागर में हुआ हैL वर्तमान में छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में निवास है,जबकि स्थायी पता भोपाल(मध्य प्रदेश) हैL बी.एस-सी,(जीवविज्ञान)बी.ए.(संगीत), एम.ए (संगीत, इतिहास, दर्शन,लोक प्रशासन,एजूकेशनल सायकोलॉजी, क्लीनिकल साय.,आर्गेनाइजेशनल साय.)एल.एल.बी.,पी.जी.डी.(लेबर लॉ एंड इण्डस्ट्रियल रिलेशन)सहित पी.एच-डी.(इन क्लीनिकल साय.), एम.बी.ए.(वित्त और मानव संसाधन) की शिक्षा प्राप्त डॉ.तिवारी का कार्य क्षेत्र-नौकरी हैL सामाजिक गतिविधि के तहत आप व्यक्तित्व विकास प्रशिक्षक,परामर्शी सहित ज्योतिष लेखन में सक्रिय हैंL इनकी लेखन विधा-कविता,कहानी एवं आलेख हैL हिन्दी सहित अंग्रेजी का भाषा ज्ञान रखती हैं।