कुल पृष्ठ दर्शन : 501

You are currently viewing इश्क में इल्जाम बड़ा

इश्क में इल्जाम बड़ा

ताराचन्द वर्मा ‘डाबला’
अलवर(राजस्थान)
***********************************************

इश्क में इल्जाम बड़ा,
भारी है
शायद मेरे जनाजे की,
तैयारी है।

गुनाह-सा हो गया है अब,
इश्क करना
कमबख्त हर तरफ यहां,
लाचारी है।

कोई पैसों से इश्क करता है,
कोई रिश्तों से
हमने तो पाली भी अजीब,
बीमारी है।

बे-वजह घूमता फिरता हूँ,
रातों में
आँखों में नशें की छाईं,
खुमारी है।

शतरंज का खेल हो गया है,
जीवन मेरा।
हर तरफ शोला और,
चिंगारी है॥

परिचय- ताराचंद वर्मा का निवास अलवर (राजस्थान) में है। साहित्यिक क्षेत्र में ‘डाबला’ उपनाम से प्रसिद्ध श्री वर्मा पेशे से शिक्षक हैं। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में कहानी,कविताएं एवं आलेख प्रकाशित हो चुके हैं। आप सतत लेखन में सक्रिय हैं।

 

Leave a Reply