Visitors Views 44

एक उस भगवन…

दुर्गेश कुमार मेघवाल ‘डी.कुमार ‘अजस्र’
बूंदी (राजस्थान)
**************************************************

रचनाशिल्प:अमात्रिक काव्य-‘अ’ के अतिरिक्त अन्य स्वर की मात्रा का प्रयोग नहीं

मन-मग रहत,
बस एक उलझन।
हदय बस तब,
चयन उस भगवन।
जतन जब सरजन,
अब अनवरत अर
अनवरत।
जग-जन चमन सद,
बढ़त बस बरकत।

ईश,असलम,
धन-धन,सत-मदद।
इस,उस सरजन पर,
भगतन मन उलझन।
तन-मन-धन-जतन,
उस पर बस अरपण।
रत-रत भगत अर,
करत कई जतनन।
बस उस पद दरशन,
बस उस पद दरशन।

तन तड़पन,
रहत जल,जल-जल।
अर मन बस,
बसत जड़
सह उस तड़पन।
टप-टप जब जल बह,
नयनन सब नयनन।
गगन गरज घम,
बस उमड़न,अर उमड़न।
जल-कल तब उदय रह,
अर तट बह नदयन।

मन बह भय-डर,
नहरन पर उमगन।
जगत बस जल-जल,
मन भर अर उमगन।
तन रह,बस अचल,
मन उमग उस भगवन।
हदय बसत अक्ष,
तब परकट उस सरजन।
अनवरत जतन तब,
हत-हट हदय जकड़न।
दरश जब करत सब,
मगन हर तन-मन।
कर सकत,
तब सब नमन।
बस एक उस भगवन,
बस एक उस भगवन॥

परिचय–आप लेखन क्षेत्र में डी.कुमार ‘अजस्र’ के नाम से पहचाने जाते हैं। दुर्गेश कुमार मेघवाल की जन्मतिथि १७ मई १९७७ तथा जन्म स्थान बूंदी (राजस्थान) है। आप बूंदी शहर में इंद्रा कॉलोनी में बसे हुए हैं। हिन्दी में स्नातकोत्तर तक शिक्षा लेने के बाद शिक्षा को कार्यक्षेत्र बना रखा है। सामाजिक क्षेत्र में आप शिक्षक के रुप में जागरूकता फैलाते हैं। लेखन विधा-काव्य और आलेख है,और इसके ज़रिए ही सामाजिक मीडिया पर सक्रिय हैं। आपके लेखन का उद्देश्य-नागरी लिपि की सेवा,मन की सन्तुष्टि,यश प्राप्ति और हो सके तो अर्थ प्राप्ति भी है। २०१८ में श्री मेघवाल की रचना का प्रकाशन साझा काव्य संग्रह में हुआ है। आपकी लेखनी को बाबू बालमुकुंद गुप्त साहित्य सेवा सम्मान आदि मिले हैं।