Visitors Views 178

जनभाषा में न्याय, शिक्षा और रोजगार को लेकर २६ नवम्बर को राष्ट्रीय सम्मेलन

सेवा-संघर्ष के लिए ४ लोगों को मिलेगा सम्मान…

मुम्बई (महाराष्ट्र)।

मुंबई और दिल्ली के बाद अब वैश्विक हिंदी सम्मेलन द्वारा पटना में बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन के सभागार में २६ नवंबर को राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रमाकांत शर्मा, पटना उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश एवं चाणक्य राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय की कुलपति श्रीमती मृदुला मिश्र और मुंबई उच्च न्यायालय के ही पूर्व न्यायाधीश एवं जजेस एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद के अतिरिक्त इलाहाबाद उच्च न्या. के वरिष्ठ अधिवक्ता प्रदीप कुमार, भारत भाषा सेनानी हरपाल सिंह राणा और हिंदी सम्मेलन के अध्यक्ष डॉ. मोतीलाल गुप्ता उपस्थित रहेंगे।
इस सम्मेलन की अध्यक्षता साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष डॉ. अनिल सुलभ करेंगे। संगोष्ठी का संचालन पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय की हिंदी की प्रोफेसर श्रीमती मंगला रानी और हिंदी में न्याय के लिए संघर्षरत पटना उच्च न्यायालय के अधिवक्ता इंद्रदेव प्रसाद करेंगे। सम्मेलन में बिहार के अतिरिक्त अन्य राज्यों से भी प्रतिनिधि व वक्ता पहुंचेंगे। सम्मेलन में जनभाषा में न्याय और हिंदी भाषा एवं साहित्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए सन्मान चिन्ह दिए जाएंगे। अध्यक्ष डॉ. अनिल सुलभ को ‘वैश्विक हिंदी-साहित्य सेवा-सम्मान’, प्रो. डॉ. मंगला रानी को ‘डॉ. कामिनी स्मृति वैश्विक हिंदी सेवा सम्मान’ से विभूषित किया जाएगा। ऐसे ही भाषा-सेनानियों अखिलेश कुमार सिंह, कृष्णा यादव तथा विनोद शर्मा को भी ‘वैश्विक हिंदी सेवा सम्मान’ से विभूषित किया जाएगा।

(सौजन्य:वैश्विक हिंदी सम्मेलन, मुम्बई)


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *