रचना पर कुल आगंतुक :117

You are currently viewing नए दिन की शुरुआत

नए दिन की शुरुआत

डाॅ. पूनम अरोरा
ऊधम सिंह नगर(उत्तराखण्ड)
*************************************

रोज सांझ होता सूर्य अस्त,
अपनी ही धुन में मस्त
पूरा लाल कभी टमाटरी,
कभी पीला,कभी सतरंगी
पूरा गोल,कभी बादलों की ओट,
कभी दिखते ही पलक झपका
विलीन हो जाता क्षितिज पार।

प्रातः उदित होकर निगाह रखता,
दुनिया के प्रत्येक व्यक्ति पर
कौन सुखी-कौन दुःखी,
कौन पुलकित-कौन अवसाद में
सबको देख करता ऐसा प्रयास,
करता ढलने का खूबसूरत अन्दाज़
सभी के चेहरे पर हो मुस्कान।

मानो कहता आकर हम सबसे,
परिस्थितियों के अनुसार
ढल जाओ तुम भी,
अपनी चिन्ताओं का करो परित्याग।

मुझ संग डूब जाएं दुःख,
और सुखद हों एहसास
नवीन उत्साह से तुम सभी करो,
पुनः मेरे उदित होने का इन्तज़ार।
और नए दिन की नये ढंग से,
नई उमंगों से करना शुरुआत॥

परिचय–उत्तराखण्ड के जिले ऊधम सिंह नगर में डॉ. पूनम अरोरा स्थाई रुप से बसी हुई हैं। इनका जन्म २२ अगस्त १९६७ को रुद्रपुर (ऊधम सिंह नगर) में हुआ है। शिक्षा- एम.ए.,एम.एड. एवं पीएच-डी.है। आप कार्यक्षेत्र में शिक्षिका हैं। इनकी लेखन विधा गद्य-पद्य(मुक्तक,संस्मरण,कहानी आदि)है। अभी तक शोध कार्य का प्रकाशन हुआ है। डॉ. अरोरा की दृष्टि में पसंदीदा हिन्दी लेखक-खुशवंत सिंह,अमृता प्रीतम एवं हरिवंश राय बच्चन हैं। पिता को ही प्रेरणापुंज मानने वाली डॉ. पूनम की विशेषज्ञता-शिक्षण व प्रशिक्षण में है। इनका जीवन लक्ष्य-षड दर्शन पर किए शोध कार्य में से वैशेषिक दर्शन,न्याय दर्शन आदि की पुस्तक प्रकाशित करवाकर पुस्तकालयों में रखवाना है,ताकि वो भावी शोधपरक विद्यार्थियों के शोध कार्य में मार्गदर्शक बन सकें। कहानी,संस्मरण आदि रचनाओं से साहित्यिक समृद्धि कर समाजसेवा करना भी है। देश और हिंदी भाषा के प्रति विचार-‘हिंदी भाषा हमारी राष्ट्र भाषा होने के साथ ही अभिव्यक्ति की सरल एवं सहज भाषा है,क्योंकि हिंदी भाषा की लिपि देवनागरी है। हिंदी एवं मातृ भाषा में भावों की अभिव्यक्ति में जो रस आता है, उसकी अनुभूति का अहसास बेहद सुखद होता है।

Leave a Reply