Visitors Views 39

पर्यावरण दिवस पर हुआ ऑनलाइन सम्मेलन

मंडला(मप्र)।

पर्यावरण संवर्धन एवं उसके महत्व को बनाए रखने हेतु जागरूकता का संदेश फैलाने व जनमानस में चेतना प्रसारित करने की दिशा में ऑनलाइन कवि सम्मेलन दिल्ली मातृका विवेक साहित्यिक मंच (पंजीकृत) द्वारा पर्यावरण दिवस पर आयोजित किया गया। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर देश के गणमान्य रचनाकारों ने इसमें सहभागिता की।
आयोजन में सभी प्रबुद्ध रचनाकारों द्वारा साहित्य की विभिन्न विधाओं में एक से बढ़कर एक रचनाओं की प्रस्तुति दी गई। मंच की अध्यक्ष सुश्री प्रीति हर्ष तथा उपाध्यक्ष आरती तिवारी सनत,तकनीकी प्रभारी स्वाति जैसलमेरिया,प्रो.(डॉ.)शरद नारायण खरे(मंडला,मप्र)व भारत के कोने-कोने से रचनाकारों ने एक से ‌बढ़कर एक रचनाओं को प्रस्तुत किया।
लब्धप्रतिष्ठित कवि प्रो. खरे ने बढ़िया दोहे-‘पेड़ कट रहे नित्य ही,मौसम मारे मार। नदियाँ मैली हो गईं, हवा हुई बीमार॥’ प्रस्तुत किए।
एम.एल. नत्थानी,रंजना बिनानी काव्या,सुनीता हेड़ा,हेमंत कुमार रावल,कवि मनोहर सिंह चौहान मधुकर,कुमकुम वेद सेन,चंद्रिका व्यास,डॉ.अलका पाण्डेय,पद्माक्षी शुक्ल,अपर्णा दुबे,कल्पना सेठी कला,प्रो.दिवाकर दिनेश गौड़,प्रो विलास गायकवाड़,वीना आडवाणी,गायत्री ठाकुर,इंदु सिन्हा एवं गीता पांडे आदि रचनाकारों ने भी पर्यावरण संरक्षण के लिए लेखनी के माध्यम से अपनी भागीदारी कर योगदान दिया।
मंच दिल्ली द्वारा सभी प्रतिभागियों को ‘पर्यावरण सखा’ सम्मान से सम्मानित भी किया गया।