Visitors Views 29

मतदान करने के संकल्प के साथ कराई काव्य गोष्ठी

इंदौर।

काव्य सागर संस्था इंदौर की मासिक काव्य गोष्ठी का आयोजन जयनारायण पाटीदार कुंवर के निवास पर हुआ। शहर भर से आए कवि और श़ायरों ने गीत-गज़ल-कविताओं से यहाँ ऐसा समां बांधा कि श्रोतागण वाह-वाह करते रूके नहीं।
प्रारम्भ में संस्था अध्यक्ष बृजमोहन शर्मा बृज ने काव्यपाठ किया -घर महका आँगन महका गलियां महक उठीं,बाग का हर फूल महका कलियां महक उठीं। तेरे बदन की खुशबू से महक उठा सारा आलम,तुझको बाँहों में लिया तो बहियां महक उठीं। इसके बाद-चाहता हूँ मैं हर एक दिल में राम हो जाये,बंदगी उसकी करूं ये ही काम हो जाये…सुनील रघुवंशी सिपाही ने सुनाई तो-ऐ माँ तेरा एहतराम क्या होगा,तेरी गोद से बढ़कर मेरा मुकाम क्या होगा…पवित्रा पंवार ने प्रस्तुत की। राहुल बजरंगी ने-माया की जय सब करें,हरि को भजे न कोय,अंत काल हरि नाम ही,बस मानव को होय…सुनाई।
जितेन्द्र शिवहरे ने बताया कि,जितेंद्र राज,हरीश सिसोदिया साथी, धर्मेंद्र अम्बर,बालकराम जी शाद,जयनारायण पाटीदार कुंवर, अजय जैन,अशोक द्विवेदी अग्रज,राज सान्धेलिया राज आदि प्रसिद्ध कवियों ने भी काव्य पाठ कर वाह-वाही लूटी। सभी कवियों ने लोकसभा चुनाव में मतदान करने और अपने इष्टजनों से मतदान करवाने का संकल्प लिया। गोष्ठी की अध्यक्षता ओंकारेश्वर गहलोत ने की। मुख्य अतिथि अशोक द्विवेदी अग्रज थे। संचालन राज सान्धेलिया राज ने किया। आभार श्री पाटीदार ने माना।