कुल पृष्ठ दर्शन : 313

You are currently viewing मन का फेर

मन का फेर

डॉ. संगीता जी. आवचार
परभणी (महाराष्ट्र)
*****************************************

मन का मौसम है अपने ही मन का फेर,
दूसरों को देखोगे तो हो ही जाएगा अंधेर।

मन अपना, खुशी क्यों औरों से जोड़ते हो ?
तोड़ने वाले बहुत हैं, फिर मायूस हो जाते हो!

मन अपना फूल से बढ़कर नाजुक होता है,
औरों से कहाँ आज-कल समझा जाता है ?

मन रे, कहा है किसी कवि ने तू धीर धर,
औरों की वजह से खुद को बर्बाद न कर।

मन रे मोह-माया से सम्भल कर रहा कर,
मुफ्त में सुख-चैन का सौदा न किया कर।

मन का मौसम खुद के काबू में रखा कर,
इसे औरों के भरोसे नहीं कभी सौंपा कर॥

Leave a Reply