कुल पृष्ठ दर्शन : 338

You are currently viewing वर्तमान रेखा विभाजन मात्र

वर्तमान रेखा विभाजन मात्र

संदीप धीमान 
चमोली (उत्तराखंड)
**********************************

वर्तमान रेखा विभाजन मात्र
भूत,भविष्य साधन जान,
वर्तमान करे भोग कल्पना
मन को अपने बाधक मान।

राह स्मृति भूतकाल की
अतीत प्रक्षेपित भविष्य ज्ञान,
वर्तमान से मन की दूरी
शून्य-सा उस पल को जान।

समय,श्वाँस मात्र वर्तमान है
नाम लेते ही भूत तू जान,
पक्ष न ठहरें वर्तमान का
छूते ही पक्ष भूत को ध्यान।

चिंता,मनन,चिंतन सब दूर है
सबमें मन का भविष्य ध्यान,
मन वंचित है वर्तमान से
भूत,भविष्य इसका ज्ञान।

वर्तमान पल अनछुआ-सा,
भूत,भविष्य विभाजन जान।
केन्द्र बिन्दु मात्र वर्तमान है,
मन,भूत भविष्य साधक मान॥

Leave a Reply