कुल पृष्ठ दर्शन : 299

You are currently viewing शिक्षा है़ पिछड़ी

शिक्षा है़ पिछड़ी

प्रिया देवांगन ‘प्रियू’
पंडरिया (छत्तीसगढ़)
************************************

हुआ साल बर्बाद,काल कोरोना आया।
हुए सभी बीमार,कहर दुनिया में छाया॥
कमरे में सब बंद,बैठ कर रहते सारे।
दूर-दूर सब लोग,लगे जैसे बेचारे॥

स्कूल-कॉलेज बंद,पढ़ाई हुई अधूरी।
निकली कुछ तरकीब,ऑनलाइन की पूरी॥
बच्चे बैठे रोज,हाथ मोबाइल पकड़े।
बीमारी भी साथ,सभी बच्चों को जकड़े॥

करे बहाने रोज,हाथ मोबाइल भाये।
खेला करते गेम,पढ़ाई समझ न आये॥
पुस्तक-कॉपी देख,परीक्षा लिखते सारे।
शिक्षक पकड़े माथ,सभी शिक्षा से हारे॥

जो गरीब परिवार,फोन भी पास न होते।
नहीं बैठते शांत,फूट कर बच्चे रोते॥
हुए अधूरे लक्ष्य,देख शिक्षा है पिछड़े।
पुस्तक-कॉपी दूर,बिना बच्चे है बिगड़े॥

Leave a Reply