कुल पृष्ठ दर्शन : 349

You are currently viewing श्री राम

श्री राम

श्रीमती देवंती देवी
धनबाद (झारखंड)
*******************************************

सत्य वचन राम राम सब ही कहे,
सत्यवादी दशरथ कहे ना कोय
अन्तर्मन से,एक बार दशरथ कहे,
तब मानव का जन्म स्वार्थ होय।

नमन मैं आप सबको करती हूँ,
हे परम पूज्य पिता श्री दशरथ
कठिन यज्ञ तप किए थे आपने,
तभी पूर्ण हुआ आपका मनोरथ।

जबसे राम का हुआ है आगमन,
पावन हुई भारत की अवध भूमि
शून्य धरा थी,शून्य था नील गगन
शून्य लग रही थी अवध की भूमि।

पापियों का संहार करने आ गए,
अवधपति हमारे श्री राजा राम।
धरा पर शंख की ध्वनि से गूंजी है,
जै जै रघुपति राघव राजा राम॥

परिचय– श्रीमती देवंती देवी का ताल्लुक वर्तमान में स्थाई रुप से झारखण्ड से है,पर जन्म बिहार राज्य में हुआ है। २ अक्टूबर को संसार में आई धनबाद वासी श्रीमती देवंती देवी को हिन्दी-भोजपुरी भाषा का ज्ञान है। मैट्रिक तक शिक्षित होकर सामाजिक कार्यों में सतत सक्रिय हैं। आपने अनेक गाँवों में जाकर महिलाओं को प्रशिक्षण दिया है। दहेज प्रथा रोकने के लिए उसके विरोध में जनसंपर्क करते हुए बहुत जगह प्रौढ़ शिक्षा दी। अनेक महिलाओं को शिक्षित कर चुकी देवंती देवी को कविता,दोहा लिखना अति प्रिय है,तो गीत गाना भी अति प्रिय है।

Leave a Reply